kishangarh_सास छत से गिर गई, खून से बह रहा

यह मेडिकल इमरजेंंसी दर्शा कर लिया वाहन का पास
राज पोर्टल पर की थी शिकायत
उच्च अधिकारियों की सलाह के बाद जारी किया तहसील प्रशासन ने वाहन का पास

By: kali charan

Updated: 18 Apr 2020, 12:39 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
मदनगंज-किशनगढ़.
अरांई का युवक मध्यप्रदेश उज्जैन जाने के लिए काफी जतन कर वाहन का पास बनाने में सफल हुआ। पास लेने के लिए उसने उज्जैन में मानसिक रूप से कमजोर सास के छत से गिर जाने और लहूलुहान हालत की फोटो वाट्स अप पर दिखाने के बाद स्थानीय तहसील प्रशासन ने आखिरकार युवक के खुद समेत दो अन्य व्यक्तियों के कार का जाने का सिर्फ एक तरफा 8 अप्रेल को पास जारी कर दिया। ताकि वह सास का उपचार करवा सके।
युवक ने सबसे पहले तहसील कार्यालय में उज्जैन जाने के लिए प्रार्थना पत्र प्रस्तुत किया। यहां से दो बार अस्वीकृत कर दिय गया। युवक ने उपखंड अधिकारी के समक्ष पास के लिए आवेदन किया। लेकिन यहां से भी दो बार मना कर दिया गया। इसके बाद युवक ने राज पोर्टल पर इसकी शिकायत की। लेकिन उपखंड प्रशासन ने उचित नहीं मानते हुए स्वीकृति नहीं दी। युवक ने एडीएम सिटी, अजमेर जिला कलक्टर और कंट्रोल रूम में शिकायत की। लेकिन उपखंड अधिकारी प्रशासन ने पास की स्वीकृति नहीं दी गई। युवक के बार बार आग्रह पर एसडीओ देवेंद्र कुमार ने मध्यप्रदेश में कार्यरत अपने बेच मेंट अधिकारी को फोन कर युवक के बताए पते पर उसकी सास की वस्तुस्थिति जानने और देखभाल की व्यवस्था करने का आग्रह किया। साथी अधिकारी ने युवक की सास की उज्जैन में देखभाल की व्यवस्था भी की। लेकिन इसके दो दिन बाद ही युवक उज्जैन में मौजूद मानसिक रूप से कमजोर सास के छत से गिरने और खून से लहूलुहान होने की बात कहते हुए वाट्स अप फोटो दिखाए। इस पर आखिरकार एसडीओ ने उच्च अधिकारियों से सलाह लेकर युवक को उज्जैन जाने के लिए सिर्फ एक तरफा वाहन का पास तहसील कार्यालय से जारी किया गया। लेकिन युवक ने वहां से जैसे तैसे पुन: किशनगढ़ लौटने का पास भी बनवा लिया और किशनगढ़ लौट आया।
युवक पत्नी और बच्चे के साथ उज्जैन पहुंचा और वहां से भी जैसे तैसे किशनगढ़ लौटने का पास बनाने में सफल हो गया और वह सास, ससुर समेत पत्नी और बच्चे के साथ पुन: 10 अप्रेल को अरांई लौट आए। बाहर से आने की जानकारी मिलने के बाद स्थानीय चिकित्सक ने परिवार के इन पांच सदस्यों समेत युवक के माता पिता सभी को होम आईसोलेशन की सलाह दी। इसके बाद इन्हें रेंडम सैम्पलिंग के लिए 14 अप्रेल को किशनगढ़ यज्ञनारायण चिकित्सालय भेजा गया। यहां पर सभी सातों सदस्यों को क्वारेंटाइन कर लिया गया और रेंडम सैम्पलिंग की जांच के लिए ब्लड सैम्पल लिए गए। सभी सदस्यों की जांच रिपोर्ट नेगेटिव आई। इनमें से कुछ को अरांई भेज कर होम आईसोलेशन की सलाह दी गई और कुछ को क्वारेंटाइन के लिए हॉस्पिटल ही रोक लिया गया। उज्जैन से आए वृद्ध ससुर की रिपोर्ट 16 अप्रेल को पॉजीटिव आई और स्थानीय प्रशासन ने अरांई भेजे परिवार के सदस्यों को पुन: रात को ही किशनगढ़ हॉस्पिटल में लाकर क्वारेंटाइन कर दिया गया।

kali charan Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned