kishangarh_इच्छा शक्ति हो तो बने बात, जल्द मीटिंग बुलाए सभापति

भाजपा और कांग्रेस ने कहा यह समय राजनीति करने का नहीं, सामाजिकहित में होनी चाहिए पहल

By: kali charan

Updated: 06 May 2020, 12:02 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
मदनगंज-किशनगढ़.
वार्डों के विकास की एवज में पार्षदों मद में आवंटित होने वाली राशि का कुछ हिस्सा कोविड-19 महामारी की रोकथाम के लिए नागरिकों की मेडिकल और भोजन इत्यादि व्यवस्था पर भी खर्च किया जाना चाहिए। सतारूढ़ भाजपा पार्षदों, प्रतिपक्ष कांग्रेसी पार्षदों और निर्दलीय पार्षदों के साथ ही अब भाजपा और कांग्रेस संगठन भी ने समर्थन किया है। भाजपा और कांग्रेस के पदाधिकारियों ने इस महामारी के समय किसी भी प्रकार से राजनीति नहीं, बल्कि सामाजिक दायित्व निभाते हुए पूरे बोर्ड सदस्यगणों से मिलजुल कर नागरिकों के सेवा कार्य से जुड़े कार्य शुरू करने और अपनी भागेदारी निभाने का आह्वान किया है। ताकि स्थानीय नागरिकों के लिए बेहतर चिकित्सा एवं भोजन सुविधा इत्यादि व्यवस्था हो सके। दोनों ही संगठनों ने इस मसले पर जल्द पहल करने की बात कही है। बस अब जरुरत है तो इच्छा शक्ति दर्शाते हुए सभापति की पहल की।
सामाजिक दृष्टिकोण पर ध्यान दे
इस महामारी के समय सभी को राजनीति दृष्टिकोण से ऊपर उठ कर सामाजिक दृष्टिकोण को ध्यान में रखते हुए मिलजुल कर साथ काम करना चाहिए। ताकि हम सभी इस वैश्विक महामारी से जीतें। यदि पार्षद मद में आवंटित होनी वाली राशि जनता की भलाई के लिए उपयोग में लाई जाती है तो इसमें किसी को दिक्कत भी नहीं होने चाहिए। इस समय जान है तो जहान है। सभापति जल्द निर्णय ले और सामाजिक सरोकार के कार्य युद्ध स्तर पर शुरू करें।
-किशन बंग, अध्यक्ष, मदनगंज मंडल, भाजपा।
मेडिकल और भोजन व्यवस्थाओं की जरुरत
वार्ड विकास से पहले अभी जनता के लिए मेडिकल और भोजन इत्यादि व्यवस्था की जरुरत है। जनता का ही पैसा है और उचित समय पर यह पैसा यदि जनता पर ही खर्च नहीं किया गयाा तो क्या फायदा। जब किसी को एतराज नहीं है तो फिर देरी क्यो, समझ में नहीं आ रहा। सभापति को इस मसले पर सभी सदस्यगणों के साथ चर्चा करनी चाहिए और प्रस्ताव पर निर्णय लेकर उसकी क्रियांविती भी शुरू करनी चाहिए।
-जयराम मालाकार, अध्यक्ष, किशनगढ़ मंडल।
किसी को एतराज नहीं होना चाहिए
कोरोना वायरस संक्रमण एक महामारी के रूप में फैल चुका है। इस समय यदि जनता के पैसे का ही कुछ हिस्सा जनता के स्वास्थ्य या भोजन व्यवस्था पर खर्च किया जाए तो इसमें किसी को एतराज भी नहीं होना चाहिए। सभापति में इच्छा शक्ति की कमी है। जब दूसरे निकायों ने यह व्यवस्था शुरू कर दी तो फिर किशनगढ़ क्या राजस्थान से बाहर है क्या। जल्द बोर्ड मीटिंग बुलाए और सदस्यों की आम सहमति से निर्णय लिया जाए।
-रतनलाल यादव, जिलाध्यक्ष, कांग्रेस देहात सेवादल।
यह सब जनता की नजर में
यह नागरिकों के हितों और सेहत से जुड़ा मामला है। जल्द कानूनी प्रक्रिया शुरू होनी चाहिए और गरीब एवं जरुरतमंद नागरिकों की सेवा कार्य शुरू होने चाहिए। बेहतरी के कार्य को किस प्रकार टाला जा रहा है यह सब जनता भी देख रही है और समय आने पर ऐसे समय में राजनीति करने वाले लोगों को सबक भी सीखाएगी। यह जनता है सब जानती है।
-रमेश जाजू, अध्यक्ष, ब्लॉक कांग्रेस कमेटी।

kali charan Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned