यह भुल बन सकती है आफत

कोरोना संक्रमण की अनदेखी

By: kali charan

Updated: 24 Jul 2020, 01:32 PM IST

मदनगंज-किशनगढ़.
भले ही अजमेर जिले के साथ ही किशनगढ़ के शहरी क्षेत्र में हर दिन कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ रही हो। लेकिन इसके बावजूद नागरिकों की कोरोना संक्रमण की अनदेखी एक बड़ी आफत भी बन सकती है। ऐसे में सभी को एक जागरुक नागरिक बन कर कोरोना को लेकर सरकारी की एडवायरी का अनुसरण करना होगा। ताकि खुद भी संक्रमित होने से बचे और दूसरों को भी सुरक्षित रहने में सहयोगी बने।
किशनगढ़ के शहरी क्षेत्र में बीते पखवाड़े से आए दिन कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ रही है। लेकिन स्थानीय नागरिक इसे लेकर लापरवाह नजर आ रहे है। राजकीय यज्ञनारायण चिकित्सालय हो या अन्य सार्वजनिक स्थान सभी जगह लोग या तो समूह में बैठे नजर आ रहे है या फिर बिना मुंह पर मास्क बांधे दिखाई दे रहे है। एटीएम बूथ या फिर बाजार की दुकानें सभी जगह लोग भीड़ में एकत्र हो रहे है। हाथों को साबून से धोने और सेनेटाइज करने की व्यवस्था तो दुकानदार और ग्राहक दोनों ही भुल गए हो। कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए सभी को दो गज की दूूरी और मुंह पर मास्क अनिर्वाय रूप से पहनना होगा। यहीं नहीं खुले में भीड़ एकत्र नहीं करने और खुले में थूकने से भी परहेज करना होगा। ताकि सभी नागरिक कोरोना से संक्रमित होने से बच सके।

कामवाली बाई भी कोरोना संक्रमित
शिवाजी नगर क्षेत्र मेेंं गत दिनों एक महिला और भतीजे के कोरोना संक्रमित होने के बाद अब घर पर झाडू पौछा करने वाली महिला भी कोरोना संक्रमित हो गई है। महिला की रिपोर्ट गुुरुवार को कोरोना पॉजिटिव आई। कोरोना पॉजिटिव महिला को कायड़ स्थित कोविड केयर सेंटर भर्ती किया गया है।
बीते सप्ताह शिवाजी नगर क्षेत्र में महिला और परिवार के ही किशोर (भतीजा) के कोरोना संक्रमित होने के बाद अब घर पर झाडू पौछा करने के लिए आने वाली 25 वर्षीय महिला की भी कोरोना जांच रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई। जबकि शेष 94 रिपोर्टें नेगेटिव आई। वहीं राजकीय यज्ञनारायण चिकित्सालय प्रबंधन ने गुरुवार को कोरोना जांच के लिए 47 सैम्पल लिए और जांच के लिए अजमेर जवाहरलाल नेहरू चिकित्सालय भेजा है।

kali charan
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned