अब विदेश में पढ़ेगी किशनगढ़ की रेणूका

अजमेर जिले की एकमात्र छात्रा का हुआ चयन
राज्य सरकार ने किया प्रदेश की छ:ह छात्राओं का चयन

By: kali charan

Published: 23 Aug 2020, 07:08 PM IST

मदनगंज-किशनगढ़.
10 वीं कक्षा में सर्वाधिक अंक हासिल करने वाले प्रदेश की पांच छात्राओं के साथ किशनगढ़ की रेणूका कुमावत भी अब विदेश में स्नातक स्तर की पढ़ाई पूरी करेगी। राज्य सरकार ने प्रदेश की छ:ह छात्राओं का चयन किया। इनमें से रेणूका भी एक है।
राजकीय शार्दूल बालिका विद्यालय कृष्णापुरी में अध्यनरत और पांच बहनों में तीसरे नम्बर की रेणूका ने 10 वीं कक्षा में 96 प्रतिशत अंक हासिल किए। सरकारी स्कूलों में सर्वाधिक अंक हासिल करने वाली सूची में रेणूका प्रदेश में 5 वें और अजमेर जिले में प्रथम स्थान पर रही। राज्य सरकार ने प्रदेशभर में ऐसी छ:ह छात्राओं का चयन किया और इन्हें चार साल की पढ़ाई के लिए विदेश भेजेगी। इनमें रेणूका पांचवीं रैंक पर रही और नाम का चयन हो गया। रेणूका फिलहाल 12 वीं कक्षा में पढ़ाई कर रही है।
प्रतिवर्ष 10 लाख रुपए और हवाई यात्रा का खर्च
राज्य सरकार की योजना के अनुसार शिक्षा विभाग रेणूका समेत इन छ:ह छात्राओं की स्नातक स्तर की पढ़ाई विदेश में कराएगी और इस पर होने वाले सालाना 10 लाख का खर्च भी सरकार वहन करेगी। यदि रेणूका छुट्टियों के समय घर आना चाहती है तो इसके लिए हवाई टिकट का खर्च भी सरकार ही देगी। योजना के अनुसार को चार साल के लिए रेणूका विदेश में रह कर अपनी पढ़ाई पूरी करेगी और इस पर होने वाले 40 लाख समेत अन्य खर्च सरकार ही वहन करेगी।
शुरू से पढ़ाई में रूचि
रेणूका 8 वीं कक्षा में प्रदेश की मैरिज लिस्ट में तीसरा स्थान हासिल किया। 10 वीं में 5 वां स्थान प्राप्त किया और अजमेर जिले में प्रथम रही। 11 वीं कक्षा मेें भी रेणूका ने 98 प्रतिशत अंक हासिल किए और वह अभी 12 वीं कक्षा में है।

भामाशाह प्रेरक ने भी मदद
फोरेन स्टडी के लिए नामित होने पर परिवार से रजामंदी के लिए सरकार की ओर से भेेजे गए प्रपत्र की कवायद बुधवार को की गई। कृष्णापुरी स्थित राजकीय शार्दूल बालिका स्कूल की भामाशाह प्रेरक एवं शिक्षिका माया सैनी ने बताया कि रेणूका कक्षा 8 वीं से शाला में प्रवेश किया और इसके बाद से यहीं अध्यापन कर रही है। परिवार की आर्थिक तंगी के कारण उन्होंने रेणूका की छात्रवृत्ति के लिए भारत विकास परिषद के समक्ष आवेदन किया और परिषद की ओर से बीते करीब छ:ह महीने से रेणूका को प्रतिमाह एक हजार रुपए बतौर छात्रवृत्ति भी दी जाने लगी। शाला आने पर संस्था प्रधान उमा शर्मा ने रेणूका का माल्यार्पण कर अभिनंदन किया। साथ ही भविष्य में सफलता की शुभकामनाएं भी दी। इस मौके पर पदमिनी राठौड़, मीनू जैन, चित्रा पालीवाल, श्रीराम, लाड़ादेवी, अनिल शर्मा, मूलचंद शर्मा, पूरणचंद उदय, रामगोपाल मालाकार, तारामणी सोमानी समेत अन्य शाला स्टाफ के सदस्य मौजूद रहे।

kali charan Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned