किशनगढ़ में मिला नकली ऑयल और ग्रीस का कारखाना

पुलिस ने मारा छापा, फैक्ट्री में मिले भरे मिले कई ड्रम
खोड़ा गणेश रोड ढाणी पुरोहितान गांव के पास फैक्ट्री पर पुलिस की दबिश

By: kali charan

Published: 26 Aug 2020, 10:16 PM IST

मदनगंज-किशनगढ़.
वाहन और मशीनों में प्रयुक्त होने वाले नकली ऑयल और ग्रीस बनाने के कारखाने पर पुलिस ने छापा मारा। यहां पुलिस को बड़ी मात्रा में ग्रीस और ऑयल से भरे कई सारे ड्रम भी मिले है। फिलहाल पुलिस ने पूरे कारखाने को सीज कर दिया है और कारखाने के मालिक और उसे जुड़े गिरोह की सरगर्मी से तलाश कर रही है। लेकिन फिलहाल पुलिस के इनमें से कोई भी हाथ नहीं लगा है।
पुलिस उप अधीक्षक पार्थ शर्मा ने बताया कि बिना लाईसेंस और परमिट के नकली ऑयल एवं ग्रीस निर्मित करने वाली अनिल पेट्रो ल्यूब प्रा.लि. ऑयल फैक्ट्री से बड़ी मात्रा में नकली ऑयल, ग्रीस एवं इनको बनाने में काम आने वाले उपकरण जप्त किए गए और फैक्ट्री संचालक सुनील गंगवाल के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया गया। पुलिस अधीक्षक शर्मा ने बताया कि पुलिस टीम गश्त करते हुए खोड़ा गणेश तिराहे पर पहुंची। यहां पुलिस को सूचना मिली की ढाणी पुरोहितान से सटी और मुख्य सडक से कुछ दूरी पर ही स्थित अनिल पेट्रो ल्यूब प्राईवेट लिमिटेड नाम की ऑयल फैक्ट्री है और यहां अवैध रूप से ऑयल बनाया जाता है और भीतर बड़ी मात्रा में इनके भरे हुए ड्रम भी है। सूचना पर डिप्टी समेत पुलिस टीम ऑयल फैक्ट्री पहुंची। लेकिन इससे पहले ही यहां से फैक्ट्री मालिक और कर्मचारी निकल लिए। पुलिस को फैक्ट्री में बहुत सारे ड्रम ऑयल मिले। इनमें से कई खाली तो कई भरे हुए मिले। ड्रमों में ऑयल जैसा द्रव पदार्थ भरा हुआ मिला। जबकि कुछ ड्रमों में ग्रीस जैसा पदार्थ भी मिला।
एसपी को सूचना दी और जांच के लिए बुलाई टीम
डिप्टी शर्मा ने बताया कि एसपी कुंवर राष्ट्रदीप को इसकी सूचना दी गई और जांच के लिए एफएसएल टीम अजमेर से भेजने की बात की। इस पर संजय एवं डॉ. रेखा जैन ने किशनगढ़ के लिए टीम रवाना कर दी। केस्ट्रोल ऑयल के प्रतिनिधि हेमन्त बरडिया से मोबाइल पर सम्पर्क कर बुलाया गया। अजमेर से आई टीम के सदस्यों ने फैक्ट्री में रिसाईकिल प्लांट (पुर्नचक्रित) लगे होने और चालू अवस्था में होने की पुष्टि की। टीम को फैक्ट्री में विभिन्न प्रकार की भटटीनूमा संयत्र और टेंक भी लगे हुए मिले। इनसे लगे पाइपों से जमीन में गई पाइपों के माध्यम से टेंक में स्टोरेज विभिन्न प्रक्रियाओं से गुजर कर बनाए द्रव को चैक भी किया गया। इस पर टीम को देखने एवं अनुभव के आधार पर टेंको मे भरा द्रव और कुछ ड्रमों में ब्रिकी के लिए रखा द्रव ऑयल जैसा ही प्रतीत हुआ।
खराब ऑयल होता है रिसाईकिल
पुछताछ में पुलिस को पता चला कि वेस्ट ऑयल को खरीदकर उसे फैक्ट्री में रिसाईकिल प्लान्ट में डालकर विभिन्न प्रकार का नकली ऑयल व ग्रिस बनाया जाता है। यहां काला तेल रिफाइंड, यूजड पावर ऑयल, रिफाइंड पॉवर ऑयल, ब्लैक ब्रंट ऑयल जो ग्रिस बनाने के काम आता है। चेसिस वाइट एवं ब्लैक ग्रिस बनाते है।

kali charan Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned