हरियाली के लिए हो रही है पौधों की बिक्री

प्रतिदिन बिकते है करीब 500 पौधे

By: kali charan

Published: 17 Sep 2020, 06:28 PM IST

मदनगंज-किशनगढ़.
वन विभाग की ओर से हरियाली के लिए पौधों की बिक्री जारी है। प्रतिदिन करीब 500 पौधों की बिक्री हो जाती है। वहीं वन विभाग खुद ने भी अपने वन क्षेत्रों में 45 हजार नए पौधे लगाए है। इस माह अधिकतर पौधों की बिक्री हो जाने की उम्मीद है। इसके साथ ही वन क्षेत्रों में भी पौधरोपण बढ़ाया जाएगा।
वन विभाग की की नर्सरियों में तैयार किए गए पौधों की इन दिनों बिक्री काफी अच्छी है। मानसून सत्र में विभिन्न किस्मों के पौधों का वितरण और बिक्री कार्य किया जा रहा है। नर्सरियों में तैयार पौधों की ही बात करे तो वन विभाग ने अभी तक 35 हजार 700 पौधों की बिक्री कर दी है। इसमें संस्थाओं को एक रुपए कीमत पर दिए जाने वाले पौधे भी शामिल है। इस श्रेणी के सभी 10 हजार पौधों की बिक्री हो चुकी है। वन विभाग ने वन क्षेत्र एवं अन्य विभिन्न स्थानों पर 45 हजार से अधिक पौधे लगाए है। इसमें बांदरसिंदरी, सरगांव, पीतांबर की गाल, उदयपुर कलां, मंडावरिया एवं खातौली गांव क्षेत्र शामिल है।
जयपुर रोड चिडिय़ा बावड़ी नर्सरी में मानसून सत्र में बिक्री और वितरण के लिए विभिन्न श्रेणियों में पौधे तैयार किए गए थे। इन्हे इसी वर्ष जनवरी माह में तैयार करना शुरू किया गया। यह पौधे पनपे और इनमें से 10 हजार पौधे फार्म वन विद्या, 10 हजार जैव विविधता और 10 हजार पौधे राज्य निधि के है। इसके साथ ही पहले के तैयार 30 हजार पौधे कैम्पा योजना के और 28 हजार पौधे वन क्षेत्र में पौधरोपण के लिए है। कैम्पा योजना के पौधे बड़े हो चुके है। इनकी दर 15 रुपए, 25 रुपए और 40 रुपए है। वही वन क्षेत्र में रोंपे जाने वाले पौधे बबूल और खेजड़ी आदि श्रेणियों के है।
यह भी तैयार है पौधे
वन विभाग की नर्सरी में विभिन्न श्रेणी के पौधे तैयार किए गए है। इनमे फलदार, फूलदार और छायादार सभी तरह के पौधे शामिल है। इसमे गुलाब, मोगरा, चम्पा, कनेर, चमेली, गुड़हल आदि है। इसी तरह गुलमोहर, अमलतास, इमली, सरस, करंज आदि भी है। इनके अलावा नीम, शीशम, करंज आदि पौधे भी मौजूद है।

kali charan Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned