scriptKishangarh | Kishangarh : हैंडीक्राफ्ट मार्केट : कोरोना ने तोड़ दी बिजनेस की कमर | Patrika News

Kishangarh : हैंडीक्राफ्ट मार्केट : कोरोना ने तोड़ दी बिजनेस की कमर

मंदी झेल रहा मार हैंडीक्राफ्ट मार्केट, मिले प्रोत्साहन तो सुधरे हालात
कोरोना के कारण नहीं उबर पाया है उद्योग
कई दुकानें बंद हुई तो कई ने किया पलायन

किशनगढ़

Published: February 18, 2022 10:17:21 am

कालीचरण
मदनगंज-किशनगढ़.
कोरोना की मार किशनगढ़ के स्थानीय हैंडीक्राफ्ट मार्केट पर भी पड़ी है। इससे कारण यहां के व्यापारी और श्रमिक परेशान है। पहले की तुलना में बिक्री काफी कम हो गई है। इससे आय भी काफी कम हो गई है।
कोरोना की पहली लहर से पहले खुशहाल हैंडीक्राफ्ट मार्केट अब उदास और निराश है। यहां होने वाली बिक्री पहले की तुलना में 70 प्रतिशत तक कम हो गई है। इससे यहां के व्यापारियों की आय में भी काफी कम आ गई है। पहले जो व्यापारी महीने के 50 हजार तक कमा लेते थे और वह अब 10 से 15 हजार की कमा पा रहे है।
मांग में हुई काफी कमी
किशनगढ़ का स्थानीय हस्तशिल्प बाजार बाइपास पर स्थित है। मार्बल एरिया से लेकर अजमेर रोड की तरफ लगभग 100 हैंडीक्राफ्ट की दुकानें थी जो कि अब घट गई है। हैंडीक्राफ्ट आइटमों की मांग कम होने के कारण बिक्री बहुत अधिक घट गई है। इसका खामियाजा स्थानीय व्यापारियों और श्रमिकों को उठाना पड़ रहा है।
व्यापारियों का हुआ पलायन
बिक्री में कमी के कारण इस बाजार में आर्थिक मंदी के जैसे हालात है। व्यापारियों का कहना है कि हैंडीक्राफ्ट में ज्यादातर सजावटी सामान होने के कारण लोग इनकी फिलहाल खरीदारी नहीं कर रहे है। घटते रोजगार और लोगों की आय कम होने से बिक्री भी कम हो गई है। इसके कारण लगभग 20 प्रतिशत व्यापारी या तो पलायन कर गए है या काम छोड़ कर दूसरे काम शुरू कर दिए है। यही हाल श्रमिकों का है श्रमिकों के सामने भी रोजगार की गंभीर समस्या हो गई है।
कम की जाए जीएसटी
व्यापारियों का कहना है कि कोरोना की मार के बाद बने हालात में जीएसटी की मार ज्यादा परेशान कर रही है। हैंडीक्राफ्ट पर इस समय 18 प्रतिशत जीएसटी है। इसे कम किए जाने की आवश्यता है। साथ ही इस लघु उद्योग को कच्चे माल, बिजली इत्यादि खर्चों में भी राहत की दरकार है ताकि यह उद्योग संकट से उबर सके। केंद्र और राज्य सरकार की ओर से राहत मिलेगी तो यहां इस उद्योग को जीवनदान मिलेगा।
बिकना बंद हुए छोटे आइटम
हैंडीक्राफ्ट मार्केट में अधिकतर मंदिर, मूर्तियां, फव्वारें और छोटे आइटम की ही बिक्री अधिक होती है। लेकिन अब इनकी बिक्री बहुत कम रह गई है। मांग कम होने के कारण पहले का माल स्टॉक में रखा हुआ है। इससे निर्माण भी कम हो गया है। वहीं छोटे आइटम तो बिकना ही लगभग बंद हो गए है जिससे हैंडीक्राफ्ट मार्केट की हालत चिंताजनक हो गई है।
Kishangarh : हैंडीक्राफ्ट मार्केट : कोरोना ने तोड़ दी बिजनेस की कमर
Kishangarh : हैंडीक्राफ्ट मार्केट : कोरोना ने तोड़ दी बिजनेस की कमर
कम हो जीएसटी दर
कोरोना के बाद से बनी परिस्थितियों के कारण स्थानीय हैंडीक्राफ्ट बाजार में आर्थिक मंदी जैसे हालात है। यहां कोरोना से पहले की तुलना में 70 प्रतिशत बिक्री कम हो गई है। इस रोजगार देने वाले उद्योग को उबारने के लिए जीएसटी कम की जानी चाहिए। साथ ही लघु उद्योग श्रेणी में रियायतें मिलनी चाहिए। इससे व्यापारियों और श्रमिकों को राहत मिलेगी।
-राम सारस्वत, हैंडीक्राफ्ट व्यापारी, किशनगढ़।
प्रोत्साहन की जरुरत
कोरोनाकाल में हैंडीक्राफ्ट मार्केट को काफी नुकसान पहुंचाया है। मार्केट में मंदी आने से व्यापारी के साथ ही श्रमिक वर्ग भी परेशान हुआ है। इस समय हैंडीक्राफ्ट उद्योग को सरकार के प्रोत्साहन की जरुरत है। सरकारी प्रोत्साहन से ही उद्योग को संबल मिल सकेगा।
-महेंद्र मेहता, हैंडीक्राफ्ट व्यापारी, किशनगढ़।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

सीएम Yogi का बड़ा ऐलान, हर परिवार के एक सदस्य को मिलेगी सरकारी नौकरीश्योक नदी में गिरा सेना का वाहन, 26 सैनिकों में से 7 की मौतआय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला को 4 साल की जेल, 50 लाख रुपए जुर्माना31 मई को सत्ता के 8 साल पूरा होने पर पीएम मोदी शिमला में करेंगे रोड शो, किसानों को करेंगे संबोधितपूर्व विधायक पीसी जार्ज को बड़ी राहत, हेट स्पीच के मामले में केरल हाईकोर्ट ने इस शर्त पर दी जमानतRenault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चआजम खान को सुप्रीम कोर्ट से फिर बड़ी राहत, जौहर यूनिवर्सिटी पर नहीं चलेगा बुलडोजरMumbai Drugs Case: क्रूज ड्रग्स केस में शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को NCB से क्लीन चिट
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.