पुलिस को 24 घंटे में पकडऩे होंगे मुल्जिम

पुलिस को 24 घंटे में पकडऩे होंगे मुल्जिम

Kali Charan kumar | Updated: 13 Jun 2019, 11:13:08 AM (IST) Kishangarh, Ajmer, Rajasthan, India

आरोपितों की होगी 24 घंटे में गिरफ्तारी के आश्वासन पर उठाया शव
विषाक्त सेवन से डिस्कॉम कर्मचारी की मौत का मामला
सुसाइड नोट में कई लोगों पर लगाए आरोप
मदनगंज थाना पुलिस ने पोस्टमार्टम करवाकर परिजन को सौंपा

मदनगंज-किशनगढ़. अजमेर डिस्कॉम के कर्मचारी की विषाक्त पदार्थ के सेवन से मौत के मामले में बुधवार को राजपूत समाज के लोगों ने आरोपितों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर वाईएन हॉस्पिटल में धरना-प्रदर्शन किया। पुलिस की ओर से आरोपितों की 24 घंटे में गिर?तारी के आश्वासन दिया। इस पर परिजन शव का पोस्टमार्टम करवाने को तैयार हुए। पुलिस ने शव का मेडिकल बोर्ड से पोस्टमार्टम करवाकर परिजन को सौंप दिया।
मदनगंज थाना पुलिस के अनुसार कृष्णापुरी निवासी श?भूसिंह पंवार (45) अंराई सहायक अभियंता कार्यालय में बाबू के पद पर कार्यरत था। श?भूसिंह की संदिग्ध परिस्थितियों में मंगलवार को विषाक्त पदार्थ का सेवन करने से मौत हो गई। पुलिस को मृतक की जेब में सुसाइड नोट मिला। उसमें कई लोगों को गंभीर आरोप लगाए। पुलिस ने शव को राजकीय यज्ञनारायण चिकित्सालय की मोर्चरी में रखवा दिया था। पुलिस सुबह शव का पोस्टमार्टम करवाने के लिए राजकीय यज्ञ नारायण चिकित्सालय पहुंची तो वहां पर परिजन और समाज के लोगों ने शव का पोस्टमार्टम करवाने से मना कर दिया। उन्होंने सुसाइड नोट में लिखे नामजद आरोपितों की गिर?तारी पर ही शव को पोस्टमार्टम करवाने और शव लेने की बात कही। नारेबाजी कर वहां पर मौजूद लोग धरने पर बैठ गए। सूचना पर अजमेर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) पन्नालाल भी चिकित्सालय पहुंचे। उन्होंने समझाइश का प्रयास किया, लेकिन वह नहीं मानें। धरने में बैठे लोगों ने पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाया। एक बजे करीब पुलिस की ओर से आरोपितों की 24 घंटे में गिर?तार करने के आश्वासन के बाद मामला शांत हुआ। पुलिस ने मेडिकल बोर्ड से शव का पोस्टमार्टम करवाकर परिजन को सौंप दिया। चिकित्सालय में किशनगढ़ थाना, मदनगंज थाना, गांधीनगर थाना, बांदरसिंदरी थाना और अंराई थाना पुलिस मय जाप्ता चिकित्सालय पहुंची। उल्लेखनीय है कि पुलिस ने मृतक केशव को मंगलवार शाम को वाईएन चिकित्सालय की मोर्चरी में रखवाया था।
गांधीनगर थाना पुलिस ने नहीं की सुनवाई
सुसाइड नोट में श?भूसिंह ने लिखा कि आरोपितों ने पत्नी के साथ भी मारपीट की। इसकी सूचना गांधीनगरथाने में दी गई, लेकिन कोई र्कारवाई नहीं की गई। चिकित्सालय में मौजूद लोगों ने कार्रवाई की मांग की।
यह लिखा सुसाइड नोट में
श?भूसिंह से मिले सुसाइड नोट में बताया कि बनवारी व प्रिती और महावीर सिंह-संतोष ने अनपढ़ पत्नी को बीसी कमेटी में शामिल कर लिया और 10 रुपए सैकडा से ब्याज लगाकर पत्नी से खाली चैक मेरे अकाउंट के ले लिए। इन्होंने मनमर्जी से राशि भरकर चैक पर भी इन्होंने ही हस्ताक्षर किए। चारों लोगों ने न्यायालय में 15 लाख रुपए के मुकदमें दर्ज करा दिए। इसके बाद चारों ने पत्नी पर अनावश्यक दबाव डाला, जिससे उसकी शारीरिक और मानसिक स्थिति खराब हो गई। अजमेर विभाग में कार्यरत बाबू राजीव पर रिश्वत नहीं देने के कारण मेरे एसीपी प्रकरण जो कि 2013 से ल?िबत है। जिसे स्वीकृत नहीं किया जा रहा और अधिकारियों को भ्रमित कर झूठी जांच में उलझाया जा रहा है। सुसाइड नोट में आरोपितों को कड़ी सजा दिलाने की बात भी लिखी है।
किशनगढ़ में गिरोह सक्रिय
राजकीय यज्ञ नारायण चिकित्सालय में पुलिस को बताया कि किशनगढ़ में एक गिरोह लोगों को ब्याज पर पैसा देकर 10 से 20 रुपए सैकड़ा तक ब्याज वसलू कर रहे है। इसमें गरीब व्यक्तियों को फंसा रखा है। इसके कारण भी स्थिति खराब होती जा रही है। इस दौरान एक पीडि़त ने सीआई खण्डेलवाल को खाली स्टाम, चैक आदि की फोटो कॉपी भी सौंपी है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned