Railway Track- कार्रवाई, समझाइश और ढांचागत विकास से रूकेंगे हादसे

रेल लाइन पर मौते

By: Amit

Published: 03 Jan 2020, 08:18 PM IST

मदनगंज-किशनगढ़
नगर में रेल की पटरियों पर हादसे आम बात हो गए है। बीते वर्ष में पटरियों पर कई मौतें हो चुकी है। वर्ष 2020 की शुरूआत में हुई किशोर की मौत ने जिम्मेदारों और नागरिकों दोनो को सोचने पर मजबूर कर दिया है।
नगर की आबादी का बड़ा हिस्सा रेलवे और डीएफसीसी की लाइन के पार निवास करता है। लाइन के पार नगर परिषद के करीब 10 से ज्यादा वार्ड है। इनमें करीब 40 से 45 हजार लोग रहते है। यह लोग रोजाना किसी ना किसी काम से लाइन पार करते है। रेलवे की ओर से फरासिया, नया रेलवे स्टेशन, कृष्णापुरी, सांवतसर, मदनेश गौशाला में आरयूबी बनाए गए है। वहीं मालियों की ढाणी के पास एक अण्डरपास है। इनमें से कृष्णापुरी आरयूबी और रूपनगढ़ आरओबी के बीच में सबसे घनी आबादी निवास करती है। सबसे ज्यादा हादसे भी इन दोनो के बीच में ही होते है। सबसे ज्यादा हादसे भी यहीं होते है। लोग अंडर ब्रिज, अंडरपास और आरयूबी से जाने के बाजाय सीधे निकलते है।
-यह है कॉलोनियां
रेल लाइन के पार मालियों की ढाणी, दाधीच कॉलोनी, बृजविहार, नाथी का जाव, रूपनगढ़ रोड, हमीर कॉलोनी सहित कई घने आवासीय क्षेत्र है।
-इसलिए होते है हादसे
रेलवे लाइन के पार रहने वाले लोगों में से कई लोगों को काम-धंधे की वजह से लाइन पार जाना पड़ता है। उधर लोग खरीददारी करने के लिए भी लाइन के दूसरी ओर आते है। क्योंकि सब्जीमंडी, ओसवाली मौहल्ला, मुख्य चौराहा सहित शहर के प्रमुख बाजार इसी क्षेत्र में है। क्षेत्र बड़ा होने के कारण लोगों को ओवरब्रिज, अंडरपास और आरयूबी दूर लगते है। वे सीधे ही लाइन पार करते है। पैदल जाने वाले लोग अंडरपास में से निकलने से कतराते है। सीधे पटरियों से होकर ही जाते है। इस दौरान वे कई बार हादसे का शिकार हो जाते है।
-बरसात में हालात खराब
बरसात के समय आरयूबी और अंडरपास सभी जगह पानी भर जाता है। ऐसे में यहां से निकलना दूभर हो जाता है। अंडरपास इतना छोटा है कि वहां से दोपहिया वाहन ही निकल सकते है। वो भी एक बार में एक तरफ जाने वाले वाहन।
-2019 में कई मौते
हादसो पर नजर डाले तो वर्ष 2019 में रेलवे लाइन पर लगातार मौते होती रही। इनमें से कई मालियों की ढाणी क्षेत्र में हुई। वर्ष 2020 के पहले दिन ही एक किशोर ललित कुमार की मौत हो गई। जबकि उसका भाई घायल है।
-समझाइश और कार्रवाई दोनो
रेलवे ट्रैक को अनाधिकृत रूप से पार वालो पर आरपीएफ की ओर से कार्रवाई और समझाइश दोनो तरीके अपनाए जाते है। 2019 में सौ से ज्यादा लोगों पर कार्रवाई भी हुई। समझाइश भी जारी रही।
इनका कहना है
अनाधिकृत रूप से रेलवे लाइन पार करना अपराध है। इसमें कार्रवाई का प्रावधान है। आरपीएफ की ओर से समय-समय पर समझाइश भी की जाती है।
हरिसिंह गुर्जर, चौकीप्रभारी

लोगों की संख्या के अनुपात में आधारभूत ढांचे का विकास किया जाना चाहिए। फुट ओवर ब्रिज का निर्माण भी होना चाहिए। बरसात के समय आरयूबी और अंडरपास दोनो में पानी भर जाता है। ऐसे में हालात विकट हो जाते है।
हमीदा बानो, पूर्व पार्षद
(नंबर गेम)
नगर परिषद वार्ड 10+
जनसंख्या 45000+
चालान 100+
मौते 10+

Amit Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned