अबकी बार सर्वेक्षण सर्वे में हासिल करेंगे अच्छी रैंक

रूपरेखा तय कर तैयारियों में जुटा परिषद प्रशासन

जनवरी 2021 में होगा नया स्वच्छता सर्वेक्षण

बदहाल सड़कों ने बिगाड़ी इस बार किशनगढ़ की रैंक

By: Narendra

Published: 26 Aug 2020, 12:38 AM IST

मदनगंज-किशनगढ़ (अजमेर).

बदहाल सड़कें और सीवरेज के अधूरे पड़े काम ने इस बार की स्वच्छता सर्वेक्षण में किशनगढ़ की रैंक को कम कर दिया। हालांकि बीते साल की स्वच्छता सर्वेक्षण में काफी सुधार कर किशनगढ़ ने प्रदेश में 17वीं रैंक हासिल कर ली है। बीते साल की रैंक में सुधार कर इस बार देश की सूची में 300 रैंक हासिल की है। वहीं नगर परिषद प्रशासन अब जनवरी 2021 में होने वाले स्वच्छता सर्वेक्षण सर्वे की अच्छी रैंक के लिए अभी से तैयारियां शुरू कर दी हैं और इसकी कार्य योजना भी तैयार कर ली है, ताकि इस बार प्रदेश और देशभर में किशनगढ़ की रैंक में और अधिक सुधार हो सके।
मुख्य स्वास्थ्य निरीक्षक विकास माली ने बताया कि ऑनलाइन स्वच्छता सर्वेक्षण सर्वे 2020 में प्रदेशभर में 17वीं और देशभर की सूची में 300 वीं रैंक हासिल की है। साल 2019 की स्वच्छता सर्वेक्षण के सर्वे में प्रदेश की सूची में किशनगढ़ का 48 वां और देश की सूची में 349 वां स्थान रहा था। स्वास्थ्य निरीक्षक माली ने बताया कि सीवरेज और पेयजल पाइप लाइनें बिछाने के लिए खोदी गई सड़कों और इनकी बदहाल स्थिति के साथ ही गंदगी की वजह से किशनगढ़ को कम अंक मिले और 17 वीं रैंक पर रहे। हालांकि बीते साल के मुकाबले रैंक में अच्छी पोजिशन प्राप्त की है। जबकि डोर टू डोर कचरा संग्रहण व्यवस्था, पांच वातानुकूलित शौचालय के कारण अच्छे अंक प्राप्त हुए और किशनगढ़ की रैंक में सुधार का कारण बनी।

यह काम कर और सुधारेंगे रैंक


मुख्य स्वास्थ्य निरीक्षक माली ने बताया कि किशनगढ़ के शहरी क्षेत्र में 28 हजार 54 मकान हैं और 1 लाख 54 हजार 638 जनसंख्या है। इन संख्या के अनुपात में 98 प्रतिशत घरों में डोर टू डोर कचरा संग्रहण किया जाता है। माली ने बताया कि जनवरी 2021 में होने वाले स्वच्छता सर्वेक्षण सर्वे में अच्छी रैंक हासिल करने के लिए अभी से तैयारियां शुरू कर दी गई हैं और काम भी चिन्हित कर उनकी रूपरेखा तय कर ली गई है।

यह करने होंगे काम

- सार्वजनिक शौचालय का सीवरेज से जोड़ा जाएगा, ताकि गंदगी नालियां में नजर नहीं आए।

- मुख्य बाजारों की हरेक दुकान से कचरा संग्रहण किया जाएगा और शुल्क भी लिया जाएगा।
- पुराने जर्जर हो चुके शौचालय के स्थान पर नए शौचालय बनाए जाएंगे।

- प्री कास्टेड शौचालय बनेंगे। इसके लिए जगह भी चिन्हित की गई है। इनमें से एक महावीर पार्क के पास शौचालय बना दिया गया है। दूसरा पुरानी मिल चौराहे के नजदीक पाटनी भवन के पास बनाया जाएगा। इसमें शौच के लिए एक इंग्लिश शीट और एक इंडियन शीट और तीन यूरिनल लगाए जाएंगे।
- मुख्य बाजार और गली मोहल्लों में फल सब्जी बेचने वाले हाथ ठेले वालों के लिए साथ में कचरा पात्र रखना अनिवार्यता के नियम लागू किए जाएंगे, ताकि सड़क पर कचरा ना फैंका जा सके।

- जहां कचरा अधिक एकत्र होता है ऐसे स्थान को समाप्त किया जाएगा और यहां भी डोर टू डोर कचरा संग्रहण व्यवथा लागू होगी।

Narendra Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned