अंगूठा निशानी बनी किसानों की ऋण माफी के लिए फांस

अंगूठा निशानी बनी किसानों की ऋण माफी के लिए फांस

Kali Charan kumar | Publish: May, 24 2019 08:09:39 PM (IST) Kishangarh, Ajmer, Rajasthan, India

आंखों के न अंगूठों के निशान आए, अब समाधान की उम्मीद

मदनगंज-किशनगढ़. राज्य सरकार की ओर से सहकारी समितियों से जुड़े किसानों के कर्जमाफी की प्रक्रिया के अंतर्गत अधिकतर किसानों का कर्ज माफ हो चुका है लेकिन कुछ किसान ऐसे है जिनका कर्ज माफ अभी तक नहीं हुआ है। अगले कुछ दिन बाद आचार संहित हटने के बाद इस समस्या के समाधान की उम्मीद है।
राज्य सरकार की ओर से लागू की गई ऋण माफी योजना के अंतर्गत सहकारी समितियों के सदस्य किसानों का कर्ज माफ किया जा चुका है। वहीं कुछ किसान ऐसे है जिनका अभी तक भी कर्ज माफ नहीं हुआ है और उन्हें अभी तक कर्ज माफी का इंतजार है। उपखंड क्षेत्र के लगभग 90 किसानों में से अधिकतर किसान बुजुर्ग है। इन किसानों के अंगूठों के निशान न आंखों के निशान आते है। ई-मित्र पर आधार कार्ड के आधार पर अंगूठों और आंखों की पुतलियों के निशान नहीं मिलने से सत्यापन नहीं हुआ और इसी कारण कर्ज माफ होना अटक गया। इससे इन किसानों के कर्ज माफ अभी तक नहीं हो पाए है। इससे इन किसानों को परेशानी उठानी पड़ रही है। इन किसानों पर अभी तक बकाया कर्ज होने के कारण चिंता में है। अधिकतर किसान 80 वर्ष से अधिक आयु के है।
सरकार के पास विचाराधीन
इन किसानों के कर्ज माफी की वैकल्पिक प्रक्रिया राज्य सरकार के पास विचाराधीन है। इसमे तहसील स्तर पर शपथ पत्र सहित पटवारी और सरपंच की ओर से सत्यापन किए जाने पर कर्ज माफ की योजना आ सकती है। राज्य सरकार की ओर से निर्णय किए जाने के बाद ही नई प्रक्रिया का स्वरूप सामने आएगा।
नहीं मिल सकता नया कर्ज
जब तक राज्य सरकार की ओर से इन किसानों का कर्ज माफ नहीं हो जाता तब तक इन किसानों को सहकारी समितियों से नया कर्ज भी नहीं मिल सकता है। इस कारण इन किसानों को खेतीबाड़ी कार्य में परेशानी उठानी पड़ेगी। अगले माह से खेतों में तैयारियां शुरू हो जाएगी लेकिन इन किसानों काकर्ज माफ नहीं होनेे के कारण इन्हें निजी स्तर पर ऋण लेना पड़ेगा।
गौरतलब है कि राज्य सरकार की कर्ज माफी योजना के अंतर्गत उपखंड क्षेत्र के दस हजार से अधिक किसानों का लगभग 55 करोड़ रुपए से अधिक का कर्जा माफ हो चुका है। अब अगले कुछ दिनों में आचार संहिता हटने पर इन किसानों के कर्ज माफी की प्रक्रिया नए सिरे से तय होगी तब जाकर इन किसानों को राहत मिलेगी।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned