ग्रामीणों को गांव में मिल रहा भुगतान

गांवों में डिजीटल अर्थव्यवस्था ले रही स्वरूप
डाक कर्मी डिवाइस के माध्यम से दे रहे मनरेगा और पेंशन की राशि
बिल जमा करने और रिचार्ज आदि का कार्य भी शुरू

मदनगंज-किशनगढ़.
डाक विभाग की ओर से इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक शुरू करने के बाद ग्रामीणों को भी डिजीटल अर्थव्यवस्था का लाभ मिलने लगा है। ग्रामीणों को घर के पास ही मनरेगा, पेंशन आदि का भुगतान मिलने लगा है। इसके साथ ही बिल जमा करवाने, रिचार्ज आदि की सुविधा भी मिल गई है। इसके साथ ही न्यूनतम राशि में फंड ट्रांसफर की सुविधा भी मिल गई है।
डाक विभाग की ओर से इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक (आईपीपीबी) शुरू करने के बाद धीरे-धीरे ग्रामीण डिजीटल अर्थव्यवस्था से जुडऩे लगे है। इस खाते को आधार कार्ड, मोबाइल नंबर के माध्यम से खोला जाता है। इस खाते को मनरेगा, पेंशन, गैस सब्सिडी आदि के भुगतान के लिए जोड़ कर राशि प्राप्त की जा सकती है। इस खाते को खोलने के बाद डाक विभाग की ओर से क्यूआर कार्ड बनाया जाता है। इस कार्ड के खोने पर इसका दुरु पयोग भी नहीं हो सकता है क्योंकि इसके लिए आधार का बायोमैट्रिक अंगूठा निशान या पंजीकृत मोबाइल नंबर पर ओटीपी जरूरी होता है।
एंड्रायड फोन से होता है संचालन
डाक विभाग के रूपनगढ़, किशनगढ़, अरांई, निंबार्क तीर्थ, तिलोनिया, हरमाड़ा क्षेत्र में ५४ शाखा डाकपाल है। इस आईपीपीबी खाते को एंड्रायड फोन से आसानी से संचालित किया जा सकता है। शाखा डाकपाल के पास स्मार्टफोन पर माइक्रो एटीएम रहता है जिसे वह अपनी यूजर आईडी और पासवर्ड से संचालित करता है। इसकी खासियत यह भी है कि इस आईपीपीबी खाते से आईपीपीबी खाते में राशि भेजने पर कोई चार्ज नहीं लगता है। नगरीय क्षेत्र में ३०० और ग्रामीण क्षेत्रों में आईपीपीबी के १२०० खाते खोले जा चुके है। वहीं डाक विभाग के तीन साल से बंद पड़े खाते को भी वापस शुरू और डाक विभाग के पहले से संचालित खाते को इससे जोड़ा भी जा सकता है।
मात्र २५ रुपए में घर बैठे भुगतान
डाक विभाग की डोर स्टेप सुविधा के अंतर्गत ग्रामीण क्षेत्रों में लोग अपने घर पर भी राशि प्राप्त कर सकते है। इसके लिए २५ रुपए का चार्ज देना होगा। इसके जरिए ग्रामीण अपने घर पर ही मनरेगा, पेंशन, गैस सब्सिडी आदि का भुगतान प्राप्त कर सकते है। इससे ग्रामीणों को आने जाने का समय बचेगा। यह सुविधा शाखा डाकघर से ३०० मीटर से अधिक की दूरी पर मिलती है।
बिल जमा और रिचार्ज का कार्य भी
इस पेमेंट बैंक में खाता खुलवाने के बाद बिजली का बिल, पानी का बिल, फोन का बिल जमा करवाया जा सकता है। डिश टीवी रिचार्ज, मनीआर्डर आदि किए जा सकते है। कई ग्रामीण शाखा डाकघरों और शाखा डाकपाल के माध्यम से यह कार्य करवाने लगे है तो कुछ स्वयं ही एप के माध्यम से यह कार्य कर लेते है।
बैंकों पर कम होगा दबाव
यह सुविधा मिलने से बैंक शाखाओं पर इन कामों से संबंधित दबाव कम होगा। विशेषकर मनरेगा और पेंशन की राशि घर के पास ही मिलने से ग्रामीणों का रूझान इस ओर बढ़ेगा। इससे ग्रामीणों का आवागमन का खर्च और समय बचेगा।
इनका कहना है-
आईपीपीबी खातों से ग्रामीण क्षेत्रों में मनरेगा, पेंशन आदि का भुगतान किया जाने लगा है। इससे ग्रामीणों को काफी लाभ मिलेगा।
-रज्जाक मोहाद, डाकघर निरीक्षक, किशनगढ़।

kali charan
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned