कच्ची बस्ती में पानी की त्राही-त्राही

कच्ची बस्ती में पानी की त्राही-त्राही

Kali Charan kumar | Publish: May, 18 2019 08:30:05 PM (IST) Kishangarh, Ajmer, Rajasthan, India

रूपनगढ़ आरओबी के नीचे कच्ची बस्ती में चार-चार दिन में होता है पानी सप्लाई
सरकारी नल का पाइंट टूटा, पाइप लगाकर पानी भरने की मजबूरी

मदनगंज-किशनगढ़. नगर के रूपनगढ़ आरओबी के नीचे कच्ची बस्ती में पानी की त्राही-त्राही मची हुई है। बस्ती में चार दिन में पानी की सप्लाई होती है। उसमें भी नाममात्र का पानी आने के कारण लोगों को परेशानी होती है।

रूपनगढ़ आरओबी के नीचे 100 से अधिक घरों की कच्ची बस्ती है। यहां पर सरकारी नल भी लगा हुआ था, लेकिन नल के टूट जाने पर अब पानी आने की स्थिति में क्षेत्रवासी पाइप लगाकर पानी भरते है। इससे पानी की भी काफी बर्बादी होती है। क्षेत्रवासी शांति, भूरी, विमला ने बताया कि चार-चार दिन में पानी आता है। यहां पर एक पाइंट है, जबकि भरने वालों की संया अधिक रहती है। पानी भरने को लेकर कहासुनी होना और लड़ाई झगड़ा होना आमबात हो गई है। पानी हाथ नहीं आने की स्थिति में दूर-दराज से भरकर लाना पड़ता है। क्षेत्रवासियों ने उक्त समस्या से जलदाय विभाग के अधिकारियों को अवगत कराने के बावजूद इस ओर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। इससे क्षेत्रवासियों में रोष बढ़ता जा रहा है।
नाममात्र की होती है जलापूर्ति
क्षेत्रवासियों ने बताया कि चार-चार दिन में पानी आने के बावजूद पर्यारप्त मात्रा में जलापूर्ति नहीं होती है। पानी के पाइंट के जमीदोज होने के कारण पानी भी व्यर्थ बह जाता है। दूर-दराज से पानी लाना यहां के लोगों की दिनचर्या में शामिल हो गया है।
घरों में नहीं है नल, पाइंट पर निर्भर
कच्ची बस्ती में घरों में पानी के कनेक्शन नहीं होने के कारण पूरी बस्ती सरकारी नल के पाइंट पर निर्भर रहती है। ऐसे में चार दिन में जलापूर्ति होने की स्थिति में सबके हाथ पानी आना मुश्किल होता है। इससे किल्लत बढ़ती जा रही है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned