सबके सुख में रखे अपना सुख

सबके सुख में रखे अपना सुख

Kali Charan kumar | Updated: 11 Jul 2019, 11:10:33 AM (IST) Kishangarh, Ajmer, Rajasthan, India

अग्रसेन नगर में आर्यिका विज्ञाश्री ने दिए उपदेश

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
मदनगंज-किशनगढ़. आर्यिका विज्ञाश्री माताजी ने अग्रसेन नगर शांतिनाथ जिनालय में बुधवार को धर्मोपदेश देते हुए कहा कि जो लोग दूसरों को अपनी दुआओं में शामिल करते हैं। खुशियां सबसे पहले उन्हीं के दरवाजे पर दस्तक देती है। भारतीय संस्कृति सभी संस्कृतियों में श्रेष्ठ है। भले ही भौतिक समृद्धि में पीछे हो लेकिन आध्यात्मिक उपलब्धियों में आगे हैं। मोती बनने की जगह धागा बन जाना क्योंकि मोतियों को धागे में पिरोकर रखने की क्षमता होती है। वेद पढऩा सरल है लेकिन किसी की वेदना को पढऩा बहुत कठिन है। जीवन कितना जिया यह महत्वपूर्ण नहीं है किस भावना से जिया यह महत्वपूर्ण है। मेरे सुख में सब सुख है ऐसी नहीं अपितु सबके सुख में मेरा सुख ऐसी भावना होनी चाहिए। यदि हमारे विचारों में संकुचितपना होगा तो हमारी प्रार्थनाएं भी छोटी होगी। संकुचित दायरे में बंदी प्रार्थनाएं कामयाबी नहीं देती। सायं आनंद यात्रा व आरती का आयोजन किया गया।
मंगल प्रवेश आज
चातुर्मास के लिए आर्यिका ससंघ का 11 जुलाई को मंगल प्रवेश मदनगंज में होगा। मुनिसुव्रतनाथ दिगंबर जैन पंचायत के तत्वावधान में आयोजित होने वाले चातुर्मास के लिए प्रात: 8 बजे डाक बंगला पहुचेंगे। यहां आर्यिका ससंघ का डाक बंगले पर सकल दिगंबर जैन समाज की ओर से अगवानी करते हुए बैंड बाजों के साथ नगर के विभिन्न मार्गों से होते हुए जैन भवन लाया जाएगा। पंचायत के विनोद पाटनी व सुभाष बडज़ात्या ने बताया कि आर्यिका विज्ञाश्री ससंघ का चातुर्मास मंगल कलश स्थापना 14 जुलाई को आयोजित किया जाएगा। इसके तहत रविवार को प्रात: 11.30 बजे झंडारोहण जैन भवन एवम मंगल कलश स्थापना दोपहर 12 बजे आर.के. कयुनिटी सेंटर में होगी।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned