सीमा पार से घुस चुके हैं 6 आतंकी!

गणतंत्र दिवस पर बांगाल में आतंकी हमले की आशंका
- गृह मंत्रालय ने किया आगाह
- सूचना के बाद मलादह और मुर्शिदाबाद में बढ़ाई गई सुरक्षा
- सीमावर्ती इलाकों में कड़ी चौकसी

By: Krishna Das Parth

Published: 26 Jan 2021, 12:18 AM IST

कोलकाता.
नियो जेएमबी (जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश) के छह आतंकवादी आतंकी हमले को अंजाम देने के लिए सीमा पार कर पाश्चिम बंगाल में प्रवेश कर गए हैं। केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर से इस बावत आगाह किया है। गृह मंत्रालय की ओर से जारी की गई सूचना के बाद पश्चिम बंगाल पुलिस ने मालदह और मुर्शिदाबाद जिलों में सुरक्षा बढ़ा दी है। भारत -बांग्लादेश सीमा से सटे इलाकों में कड़ी चौकसी की जा रही है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने सोमवार को कहा कि गृह विभाग की ओर सूचना के बाद से आईएसआईएस से जुड़े आतंकी संगठन नियो-जेएमबी के आतंकियों की तलाश शुरू कर दी गई है।
उन्होंने कहा कि अलर्ट के बाद मालदह और मुर्शिदाबाद रेलवे स्टेशनों के आसपास सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। अधिकारी ने लहै कि हमें केंद्र सरकार ने छह नव-जेएमबी आतंकवादियों के बारे में अलर्ट किया है, जो लालगोला में बांग्लादेश के साथ अंतरराष्ट्रीय सीमा के माध्यम से पश्चिम बंगाल में प्रवेश कर रहे हैं। उनकी योजना गणतंत्र दिवस पर राज्य और शहर के अन्य हिस्सों में भी आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने की है। आतंकवादियों के संभावित ठिकानों के बारे में पूछे जाने पर, अधिकारी ने कहा वे राज्य के अन्य जिलों की यात्रा कर सकते हैं या शहर में पहुंच गए हैं। एसटीएफ के लोग और राज्य पुलिस ने आतंकवादियों के लिए विभिन्न जिलों में तलाशी शुरू कर दी है।
प्रारंभिक जानकारी में पता चला है कि छह आतंकवादियों ने बांग्लादेश में राजशाही जिले से यात्रा की है और मुर्शिदाबाद जिले के लालगोला में कई जलमार्गों में से एक के माध्यम से देश में प्रवेश किया है। प्रारंभिक जांच में पाया गया है कि उन्होंने सर्दियों में जलमार्गों को ढंकने वाले घने कोहरे का फायदा उठाया है। जांच में पता चला है कि नियो-जेएमबी आतंकवादियों को पश्चिम बंगाल में आतंकवादी गतिविधियों को अंजाम देने के लिए संगठन के शीर्ष नेतृत्व द्वारा निर्देशित किया गया है। उल्लेखनीय है कि कोलकाता पुलिस स्पेशल टास्क फोर्स ने जून 2020 में शहर के सियालदह और हावड़ा रेलवे स्टेशन क्षेत्रों से चार नियो-जेएमबी आतंकवादियों को गिरफ्तार किया था। इनमें से तीन बांग्लादेशी थे और एक भारत का था।

Krishna Das Parth Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned