भारत के शहरों में छुपे हैं जेएमबी के 9 आतंकी

- कोलकाता में पकड़े गए आतंकियों से पूछताछ में खुलासा
- एक साथी है बंगाल में ही, एसटीएफ कर रही है तलाश

By: Ashutosh Kumar Singh

Published: 12 Jul 2021, 10:27 PM IST

कोलकाता

बांग्लादेश के आतंकी संगठन जमात-उल-मुजाहिद्दीन, बांग्लादेश (जेएमबी) के 9 आतंकी भारत के शहरों में छुपे हुए हैं। शनिवार रात कोलकाता में एसटीएफ के हत्थे चढ़े जेएमबी के तीन संदिग्ध आतंकियों से पूछताछ में यह खुलासा हुआ है। पकड़े गए आतंकियों का एक साथी पश्चिम बंगाल में ही है। उसका नाम सलीम मुंशी है। एसटीएफ उसकी तलाश कर रही है।
एसटीएफ सूत्रों के अनुसार दक्षिण कोलकाता के हरिदेवपुर इलाके से पकड़े गए जेएमबी आतंकी नाजी-उर रहमान पावेल उर्फ जयराम बापारी उर्फ जोसेफ (30), रबीउल इस्लाम (22) और मेकाइल खान उर्फ शेख शब्बीर (30) ने पूछताछ में बताया है कि बांग्लादेश में बैठे अपने आलाकमान के आदेश पर 12 आतंकी कुछ दिन पहले अवैध ढंग से सीमा पार कर भारत में दाखिल हुए थे। उनमें से तीन मुर्शिदाबाद से सीधे कोलकाता चले आए, बाकी छोटे समूहों में विभाजित हो गए और दूसरे राज्यों में चले गए।
एसटीएफ के एक अधिकारी ने बताया कि पकड़े गए आतंकियों के पास से 15 से 20 लोगों के नाम व मोबाइल नम्बर मिले हैं। इनमें से कुछ बांग्लादेश के हैं और कुछ भारतीय हैं। एसटीएफ के अधिकारी इन्हें ट्रेस करने की कोशिश कर रहे हैं। इस दिशा में कितनी सफलता मिली है, अधिकारी फिलहाल इस बारे में कुछ नहीं बोल रहे हैं।
तीनों को शनिवार देर रात संदेह के आधार पर पकड़ा गया था। लम्बी पूछताछ के बाद रविवार दोपहर को गिरफ्तार किया गया था। सोमवार को तीनों को अदालत में पेश किया गया। अदालत ने 14 दिन के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया। इनसे कड़ी पूछताछ की जा रही है।
--
तैयार कर रहे थे स्लीपर सेल
विश्वसनीय सूत्रों की सूचना पर हरिदेवपुर इलाके में छापेमारी कर एसटीएफ की टीम ने नाजी-उर रहमान पावेल उर्फ जयराम बापारी उर्फ जोसेफ, रबीउल इस्लाम और मेकाइल खान उर्फ शेख शब्बीर नामक तीन आतंकियों को गिरफ्तार किया। ये यहां छाता बनाने वाला तथा फल बेचने वाला बनकर रह रहे थे और चोरी छुपे संगठन के विस्तार एवं स्लीपर सेल तैयार करने का काम कर रहे थे।
--
1,600 रुपए देते थे मकान का किराया
एसटीएफ सूत्रों के अनुसार ये हरिदेवपुर इलाके में 1,600 रुपए मासिक किराये पर मकान में रहते थे। मकान मालिक को बताया था कि वे भारतीय हैं। कोई पहचान पत्र नहीं दिया था। ये बड़ी ही सफाई से अपना काम करते थे। आसपास के लोगों को इनकी गतिविधियों के बारे में भनक नहीं थी। सूत्रों के मुताबिक एनआईए इन आतंकियों के बारे में सूचनाएं जुटी रही है। मकान मालिक को तलब किया गया है।
--
एक अन्य भी जांच के दायरे में
हरिदेवपुर इलाके में इनके साथ एक और साथी रहता था। उसका नाम सलीम मुंशी है। वह पहले से कोलकाता में रह रहा था। पहले वह छोटे घर में रहता था। उनके बाद उसने बड़ा मकान लिया। शनिवार रात को वह उनके साथ ही था, लेकिन एसटीएफ की टीम के पहुंचने से ठीक पहले वहां से निकल गया। एसटीएफ मामले में शेख शकील नामक युवक की भी तलाश कर रही है। सूत्रों के अनुसार वह आधार कार्ड बनाने का काम करता है।

Ashutosh Kumar Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned