स्वास्थ्य कार्ड नहीं स्वीकारने पर होगी कार्रवाई : ममता

स्वस्थ्य साथी के तहत मरीजों का इलाज करने से कई अस्पताल कर रहे हैं इनकार

By: Krishna Das Parth

Published: 12 Jan 2021, 12:38 AM IST

कोलकाता.
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोमवार को चेतावनी देते हुए कहा कि उनकी सरकार स्वास्थ्य सुरक्षा योजना "स्वस्थ्य साथी" के तहत मरीजों का इलाज करने से इनकार करने वाले निजी अस्पतालों और नर्सिंग होम के लाइसेंस रद्द कर सकती है। स्वास्थ्य योजना गरीब लोगों के लिए है। किसी को भी गरीब लोगों को परेशान नहीं किया जाना चाहिए। मुख्यमंत्री ने लोगों से स्वास्थ्य साथी कार्ड पर चिकित्सा सेवा नहीं देने वाले निजी अस्पतालों और नर्सिंग होम के खिलाफ पुलिस शिकायत दर्ज करने के लिए कहा।
ममता बनर्जी की सरकार ने वर्ष 2016 में इस योजना की शुरुआत की थी। यह एक कैशलेस योजना है जो प्रति परिवार प्रति वर्ष 5 लाख रुपए का स्वास्थ्य सेवा प्रदान करती है। 2021 के विधानसभा चुनावों के मद्देनजर मुख्यमंत्री ने नवंबर 2020 में राज्य के प्रत्येक नागरिक को कैशलेस स्वास्थ्य लाभ दिया।
मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हें पता चला है कि राज्य के कई बड़े अस्पताल हैं जो कभी-कभी सरकार के स्वास्थ्य कार्ड को स्वीकार करने से मना कर देते हैं। हम उनके साथ बैठकें करना चाहते हैं और उन्हें बताना चाहते हैं कि उन्हें यह करना होगा। दिसंबर 2020 में निजी अस्पतालों के प्रतिनिधियों और राज्य स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के बीच एक बैठक में, पूर्व ने स्वास्थ्य योजना के तहत रोगियों के उपचार के लिए दरों पर चिंता जताई थी।
हम इस स्वास्थ्य योजना के तहत जिलों में छोटे नर्सिंग होम में भी घूम रहे हैं ताकि नागरिक अपने निवास के करीब स्वास्थ्य सुविधा का लाभ उठा सकें। हम उनसे भी बात करेंगे और राज्य के मुख्य सचिव उनसे मिलेंगे ताकि किसी व्यक्ति को परेशान न किया जाए।

Krishna Das Parth Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned