35 साल बाद कोलकाता को एक और मेट्रो की सौगात

WEST BENGAL NEWS: After 35 years, another metro gift to Kolkata, रेलमंत्री पीयूष गोयल ने किया ईस्ट-वेस्ट मेट्रो परियोजना के पहले चरण का उद्घाटन, मुख्यमंत्री का नाम नहीं होने को लेकर राज्य सरकार की तरफ से किया बहिष्कार , सेक्टर 5 से साल्टलेक स्टेडियम तक 6 किमी दूरी 14 मिनट में पार करेगी मेट्रो

कोलकाता. After 35 years, another metro gift to Kolkata--35 साल पहले जिस शहर में देश की पहली भूमिगत मेट्रो रेल सेवा शुरू हुई उसी कोलकाता को बेहद लंबी प्रतीक्षा के बाद 13 फरवरी को एक और मेट्रो सेवा की सौगात मिली। बहुप्रतीक्षित ईस्ट-वेस्ट मेट्रो प्रोजेक्ट के पहले चरण का रेलमंत्री पीयूष गोयल ने उद्घाटन किया, वहीं समारोह के आमंत्रण पत्र में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का नाम नहीं होने को लेकर राज्य सरकार की तरफ से इसका बहिष्कार किया गया। समारोह में राज्य सरकार का कोई मंत्री, सांसद, विधायक व अन्य जनप्रतिनिधि नहीं पहुंचा। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि बंगाल में हम कई परियोजनाएं लाना चाहते हैं लेकिन यहां की सरकार इसे लाने नहीं दे रही। ममता सरकार नहीं चाहती कि गरीबों को इसका लाभ मिले। गोयल ने कहा कि पीएम मोदी की महत्वाकांक्षी आयुष्मान भारत योजना को अभी तक बंगाल में लागू नहीं किया गया। उन्होंने कहा कि 15-16 महीने पहले इस योजना के लागू होने के बाद से देश में एक करोड़ से ज्यादा लोगों ने इसका लाभ उठाया लेकिन बंगाल सरकार इस योजना से यहां की जनता को वंचित कर रही है। उन्होंने कहा ईस्ट-वेस्ट मेट्रो परियोजना तेज गति से विकास के सपने को साकार करती है। पूर्वी भारत एवं उत्तर-पूर्व को विकास से वंचित रखा गया था। पूर्वी भारत के विकास के बिना भारत का विकास नहीं हो सकता।

4.88 किलोमीटर लंबा कॉरिडोर
मेट्रो परियोजना का पहला चरण साल्ट लेक सेक्टर 5 और साल्टलेक स्टेडियम को जाडऩे वाला 4.88 किलोमीटर लंबा कॉरिडोर है। कोलकाता में 36 साल पहले 1984 में पहली मेट्रो रेल सेवा शुरू हुई थी। कोलकाता ईस्ट-वेस्ट मेट्रो इस शहर में दूसरी मेट्रो सेवा होगी।
सेक्टर 5 से साल्टलेक स्टेडियम तक दूरी 6 किमी दूरी को १४ मिनट में पार करेगी मेट्रो। टिकट की दर 5 व १० रुपए है। गत वर्ष ईस्ट-वेस्ट मेट्रो प्रोजेक्ट के तहत 5.5 किलोमीटर दूरी वाले सॉल्टलेक सेक्टर-5 से सॉल्टलेक स्टेडियम तक प्रथम चरण का काम पूरा कर लिया गया था। इसके बाद कमिश्नर ऑफ रेलवे सेफ्टी (सीआरएस) ने प्रथम चरण में तैयार सेक्टर-5, करुणामयी, सेंट्रल पार्क, सिटी सेंटर, बंगाल केमिकल और सॉल्टलेक स्टेडियम स्टेशनों का निरीक्षण कर यात्री सुरक्षा, सुविधा समेत अन्य तकनीकी बारीकियों का जायजा लिया गया था। सीआरएस ने उद्घाटन के लिए 30 नवंबर तक समय सीमा निर्धारित की थी, लेकिन तकनीकी समस्याओं से प्रथम चरण शुरू नहीं किया जा सका। इसके बाद रेल प्रशासन ने सीआरएस से प्रथम चरण को शुरू करने के लिए और समय देने की मांग की थी। सीआरएस ने समय सीमा बढ़ाते हुए 29 फरवरी तक प्रथम फेज का उद्घाटन करने की शर्त रखी। मेट्रो रेल प्रशासन ने ईस्ट-वेस्ट मेट्रो यात्री किराया तालिका जारी कर दी है, जिसमें 2 किमी तक 5 रुपए, 5 किमी तक 10, 10 किमी तक 20 और 16.5 किमी तक के लिए 30 रुपए किराया तय किया गया है।

35 साल बाद कोलकाता को एक और मेट्रो की सौगात

कोलकाता में ही शुरू हुई थी देश की पहली अंडरग्राउंड मेट्रो
उल्लेखनीय है कि कोलकाता में ही भारत की की पहली अंडरग्राउंड मेट्रो रेल सेवा 24 अक्टूबर, 1984 को शुरू हुई थी। शुरुआत में धर्मतला से भवानीपुर के बीच 3.4 किलोमीटर तक ट्रेन चली जो बदले समय से विस्तार किया गया। अभी नोआपाड़ा से कवि सुभाष तक 27.22 किमी में इसका दायरा है।

Shishir Sharan Rahi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned