बंगाल के गांवों में इस तरह मजबूत होगी बैंकिंग सेवा

पश्चिम बंगाल सरकार ने ग्रामीण इलाकों में रहने वाले लाखों लोगों को बैंकिंग सेवा का लाभ देने की दिशा में जोरदार पहल करने का संकेत दिया है। राज्य के सहकारी विभाग ने ग्राहक सेवा बिंदु नाम से सहकारी बैंकिंग शुरू करने का निर्णय लिया है।

By: Prabhat Kumar Gupta

Published: 25 Nov 2018, 07:52 PM IST


- ग्राहक सेवा बिंदु नाम से केंद्र खोलेगी राज्य सरकार
कोलकाता.
पश्चिम बंगाल सरकार ने ग्रामीण इलाकों में रहने वाले लाखों लोगों को बैंकिंग सेवा का लाभ देने की दिशा में जोरदार पहल करने का संकेत दिया है। राज्य के सहकारी विभाग ने ग्राहक सेवा बिंदु नाम से सहकारी बैंकिंग शुरू करने का निर्णय लिया है। राज्य के सहकारिता विभाग के मंत्री अरूप राय ने कहा कि बैंकिंग नेटवर्क में बंगाल के दूरदराज के गांवों को शामिल किया जाएगा। ऐसे गांवों में सहकारी समितियों को बैंकों के रूप में कार्य करने का अधिकार दिया गया है। सहकारिता विभाग ने हाल ही में एक बयान जारी कर कहा कि फिलहाल 2,631 सीएसपी (कस्टोमर सर्विस प्वाइंट) खोलने का निर्णय लिया गया है। इसके लिए राज्य सरकार सहकारिता विभाग को 1,000 करोड़ रुपए का फण्ड उपलब्ध कराया है। सहकारिता मंत्री ने बताया कि बैंकों की मदद से गांवों में बैंकिंग सेवा शुरू की जाएगी। गांव स्तर पर ग्राहक सेवा बिंदु (सीएसपी) खोले जाने से ग्रामीणों को बैंकिंग सेवा के बारे में जानने व समझने में मदद मिलेगी। राज्य सहकारिता विभाग के अधीन होने वाले सीएसपी से लाखों ग्रामीणों को फायदा होगा। दो हजार सहकारी समितियों की पहचान-विभागीय मंत्री ने बताया कि परियोजना पर काम लगभग शुरू हो चुका है। इसके लिए लगभग 2,000 सहकारी समितियों की पहचान की गई है। बैंकों की ओर से प्रदान की जाने वाली सभी बुनियादी सेवाएं सीएसपी में उपलब्ध होंगी। भविष्य में एटीएम सेवाएं भी सीएसपी के माध्यम से प्रदान की जाएंगी। राज्य सरकार ने चालू वित्त वर्ष 2018-19 के दौरान अधिकांश सीएसपी खोलने की योजना बनाई है।

Prabhat Kumar Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned