बंगाल: गुजरात से आए भाजपा कार्यकर्ताओं को होटल से निकाला

बंगाल: गुजरात से आए भाजपा कार्यकर्ताओं को होटल से निकाला

Rabindra Rai | Publish: May, 15 2019 06:51:13 PM (IST) Kolkata, Kolkata, West Bengal, India

इस बीच कार्यकर्ताओं की पुलिस से तीखी बहस भी हुई।

कोलकाता. पश्चिम बंगाल में लोकसभा चुनाव की जंग चरम पर पहुंच गई है। हर चरण के चुनाव में हिंसा हो रही है। हद तो तब हो गई जब राज्य के बारासात संसदीय क्षेत्र में अमित शाह की रैली के कुछ घंटों बाद रात में हाई वोल्टेज ड्रामा देखने को मिला। होटल में रुके गुजरात से आए कई भाजपा कार्यकर्ताओं को पुलिस ने बाहर निकाल दिया। इस बीच कार्यकर्ताओं की पुलिस से तीखी बहस भी हुई। पुलिस ने चुनाव से पहले होने वाली रुटीन जांच के दौरान कार्यकर्ताओं से होटल छोड़ देने के लिए कहा। इसके पीछे का एक कारण ये भी था कि तृणमूल उम्मीदवार काकोली घोष दस्तीदार ने पुलिस को बताया कि चुनाव के अंतिम दौर से पहले कुछ बाहरी भाजपा समर्थकों के ठहरे होने का शक है, जिनके पास कैश और हथियार हैं। होटल से निकाले जाने के बाद भाजपा कार्यकर्ता स्थानीय नेता तुहीन मंडल के घर चले गए।
मंडल के घर बड़ी संख्या में भाजपा कार्यकर्ताओं और नेताओं की गाडिय़ों का जमावड़ा लग गया। इसी बीच कुछ वाहनों में तोडफ़ोड़ की शिकायत के बीच पुलिस तुहीन के घर पहुंची लेकिन पूरे घर में अंधेरा छाया हुआ था। पुलिस के बार-बार फोन लगाए जाने के बाद भी किसी ने जब जवाब नहीं दिया तो पुलिस ग्रिल गेट तोड़कर घर में दाखिल हुई और मेन गेट खुलवाकर बत्तियां चालू करवा दी। इस दौरान पुलिस को घर में भाजपा नेता प्रदीप बनर्जी समेत कुछ लोग मिले। प्रदीप ने पुलिस से कहा कि वे कुछ ही देर में पार्टी मीटिंग लेने वाले थे। उन्होंने बताया कि बैठक में आरएसएस नेता और बंगाल भाजपा के सह-प्रभारी अरविंद मेनन ने भी भाग लिया था। वहीं कुछ स्थानीय लोग, जिनमें ज्यादातर तृणमूल कांग्रेस समर्थक थे, उन्होंने भाजपा नेता के घर के बाहर जमा होकर विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया। इसके बाद पुलिस को सुरक्षा लिहाज से भाजपा कार्यकर्ताओं को पुलिस स्टेशन ले जाना पड़ा। बाद में पार्टी नेता मुकुल रॉय के पुलिस स्टेशन पहुंचने के बाद देर रात 1.30 बजे पुलिस ने सभी को छोड़ दिया।

इससे पहले शाम भाजपा नेता शिशिर बाजोरिया ने ट्वीट कर जानकारी दी थी कि पश्चिम बंगाल पुलिस के अधिकारियों की ओर से उन्हें सूचित किया गया है कि रैली के बाद कोई भी गुजरातवासी बारासात इलाके में नहीं रुक सकता है। वहीं दूसरी तरफ मुकुल राय ने तृणमूल कांग्रेस प्रमुख और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर आरोप लगाया है कि वे कार में अपने साथ कैश लेकर चलती हैं। पश्चिम बंगाल के नौ संसदीय क्षेत्रों में 19 मई को अंतिम चरण में मतदान होगा। इनमें बारासात सीट शामिल है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned