गंगासागर मेले के दौरान शिकायत दर्ज करने के लिए बंगाल सरकार ने खोला कंट्रोल रुम

  • इसकी हेल्पलाइन नंबर 1070 और 033 22143526 है। इसके माध्यम से चौबीसों घंटे शिकायत दर्ज कराई जा...

By: Ashutosh Kumar Singh

Published: 13 Jan 2021, 10:22 AM IST

कोलकाता

पश्चिम बंगाल सरकार ने गंगासागर मेले के दौरान किसी भी तरह की शिकायत दर्ज करने के लिए एक कंट्रोल रुम खोला है। राज्य कंट्रोल रुम के अलावा जनता की शिकायतें जिला प्रशासन के पास भी दर्ज कराई जा सकती हैं। राज्य सरकार के एक अधिकारी ने इसकी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि इसकी हेल्पलाइन नंबर 1070 और 033 22143526 है। इसके माध्यम से चौबीसों घंटे शिकायत दर्ज कराई जा सकती है।
देश और विदेश के लाखों तीर्थयात्री "मकर संक्रांति" के अवसर पर हुगली नदी और बंगाल की खाड़ी के संगम पर पवित्र डुबकी लगाने के लिए,कोलकाता से लगभग 130 किलोमीटर दूर - सागर द्वीप पर आते हैं। कैलेंडर के अनुसार इस वर्ष पवित्र डुबकी का समय 14 जनवरी को सुबह 6.02 बजे से 24 घंटे के लिए होगा। अधिकारी ने कहा कि पिछले साल लगभग 50 लाख लोगों ने मेले का दौरा किया था, लेकिन इस साल कोविड-19 महामारी के कारण तीर्थयात्रियों की संख्या कम होने की उम्मीद है।
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा था कि उनकी सरकार ने उन लोगों के लिए 'ई-स्नान (ई-स्नान)' की व्यवस्था की है, जो हुगली नदी के संगम पर वार्षिक अनुष्ठान के लिए द्वीप पर नहीं आ पाएंगे। उन्होंने कहा कि इस साल ई दर्शन और पवित्र जल और 'प्रसाद' को किसी को भी भेजने की व्यवस्था की गई है। अधिकारी ने कहा कि गंगासागर मेले में कोरोना संक्रमण के सुरक्षा प्रोटोकॉल बनाए रखा जाएगा। मेला 16 जनवरी को समाप्त होगा। उन्होंने कहा कि मेले में सभी लोगों को 8 से 16 जनवरी तक 5 लाख रुपए का बीमा कवर प्रदान किया जाएगा। मेले के सभी प्रमुख प्रवेश बिंदुओं पर 13 चिकित्सा स्क्रीनिंग शिविर होंगे जहां तीर्थयात्रियों के लिए कोविड-19 परीक्षण आयोजित किए जाएंगे। गंगासागर मेला स्थल पर एक 600 बेड का कोविड अस्पताल और छह वेलनेस सेंटर स्थापित किए गए हैं। अधिकारी ने कहा कि किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए द्वीप के भीतर और आसपास 9,000 पुलिस कर्मियों को तैनात किया जा रहा है। 1,050 सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे और उचित भीड़ प्रबंधन सुनिश्चित करने के लिए 20 ड्रोन उड़ाए जाएंगे। तीर्थयात्रियों को परिवहन सुविधा प्रदान करने के लिए, 2,750 सरकारी और निजी बसों, 32 जहाजों और 100 लॉच की व्यवस्था की गई है।

Ashutosh Kumar Singh Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned