भाजपा कार्यकर्ता का 4 माह बाद अंतिम संस्कार

  • शव लेते समय पार्टी नेताओं और पुलिस में झड़प, होमगार्ड को थप्पड़ मारा

By: Ram Naresh Gautam

Published: 10 Sep 2021, 07:30 PM IST

कोलकाता. विधानसभा चुनाव के दौरान हिंसा की बलि चढ़े भाजपा कार्यकर्ता अभिजीत सरकार का चार महीने बाद गुरुवार को अंतिम संस्कार किया गया।

कलकत्ता हाईकोर्ट के निर्देश पर डीएनए जांच के बाद पुलिस ने शव परिजनों और भाजपा नेताओं को सौप दिया। इस दौरान भाजपा नेताओं और पुलिस के बीच हंगामा हुआ।

पुलिस ने नील रतन सरकार मेडिकल कॉलेज व अस्पताल पहुंचे भाजपा सांसद अर्जुन सिंह, प्रियंका टिबड़ेवाल और देवदत्त मांझी को रोक दिया।

इसे लेकर पुलिस और पार्टी नेताओं के बीच झड़प हुई। देवदत्त मांझी ने कथित तौर पर एक होमगार्ड को थप्पड़ मार दिया। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी आवास की ओर से केवड़ातला श्मशान घाट ले जाने को लेकर भी भाजपा कार्यकर्ताओं और पुलिस में झड़प हुई।

मांझी ने कहा कि उन्होंने जान-बूझकर थप्पड़ नहीं मारा। भावनाओं में बहने के कारण हाथ चल गया। वे इनकार भी नहीं कर रहे हैं और न ही स्वीकार कर रहे हैं।

अगर उनके खिलाफ कोई मामला करता है तो वे कोर्ट में निपट लेंगे। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने किया समर्थन: प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि सरकार के गाल पर थप्पड़ मारना चाहिए।

मांझी ने थप्पड़ मार कर ठीक किया है। अगर पुलिस उन्हें अपमानित करती है तो उन्हें भी विरोध करने का अधिकार है।
पुलिस ने अर्जुन सिंह और पार्टी नेताओं के साथ मारपीट की।

दिलीप ने कहा कि तृणमूल के गुण्डों ने पुलिस के सामने अभिजीत सरकार की हत्या की थी। पुलिस ने हत्या के सबूत मिटाने की कोशिश की थी।

हकीम ने दिलीप पर साधा निशाना
राज्य के परिवहन मंत्री फिरहाद हकीम ने कहा कि अगर भाजपा सरकार में आती तो न जाने कितने पुलिस अधिकारियों को थप्पड़ खाना पड़ता।

अच्छा हुआ कि पार्टी राज्य की सत्ता में नहीं आई। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष होमगार्ड को थप्पड़ मारने का समर्थन कर रहे हैं। राज्य की जनता समझ रही है कि वह किससे बच गई।


पार्टी मुख्यालय में श्रद्धांजलि
अस्पताल से अभिजीत सरकार का शव प्रदेश भाजपा कार्यालय लाया गया। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष, राहुल सिन्हा और अन्य नेताओं ने अभिजीत को श्रद्धांजलि दी।

पार्टी कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री के खिलाफ नारे लगाए। अभिजीत का अंतिम संस्कार केवड़ातला श्मशानघाट पर किया गया।

यह है घटना
गत दो मई को कोलकाता के नारकेलडांगा इलाके में बीच सड़क पर अभिजीत सरकार को पीट-पीटकर मार डाला गया था।

भाजपा ने तृणमूल कार्यकर्ताओं पर हत्या करने का आरोप लगाया। सीबीआइ चुनाव बाद राज्य में हुई हिंसा के अन्य मामलों के साथ ही इसकी भी जांच कर रही है।

Ram Naresh Gautam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned