राज्यभर में भाजपा-पुलिस में धक्का-मुक्की

भाजपा के कानून तोड़ो आंदोलन के दौरान बुधवार को विधाननगर सहित पश्चिम बंगाल के विभिन्न जिलों में हंगामा हुआ

By: Paritosh Dube

Published: 16 Dec 2015, 11:43 PM IST

कोलकाता
भाजपा के कानून तोड़ो आंदोलन के दौरान बुधवार को विधाननगर सहित पश्चिम बंगाल के विभिन्न जिलों में हंगामा हुआ। पुलिस और भाजपा समर्थकों में धक्का-मुक्की हुई। पुलिस ने भाजपा नेता रूपा गांगुली, रितेश तिवारी सहित सैकड़ों भाजपा नेताओं, कार्यकर्ताओं और समर्थकों को गिरफ्तार किया। बारुईपुर में पुलिसकर्मी ने एक भाजपा समर्थक महिला को सड़क पटक दिया और पीट कर उसे घायल कर दिया।
बंगाल की बिगड़ती कानून व्यवस्था, नारी उत्पीडऩ और देश विरोधी लोगों को प्रश्रय देने सहित  18  सूत्री मांगों को लेकर प्रदेश भाजपा ने राज्य के सभी जिलों में कानून तोड़ो आंदोलन चलाया। इस दौरान पार्टी नेता और समर्थकों ने आसनसोल, हावड़ा, श्रीरामपुर, दक्षिण 24 परगना के बारूईपुर सहित अन्य स्थानों पर कलक्टर और एसडीओ कार्यालय का घेराव करने की कोशिश की। पुलिस ने उन्हें रास्ते में रोकने की कोशिश की। लेकिन पुलिस की संख्या कम होने के कारण आक्रामक भाजपाइयों ने आसनसोल, श्रीरामपुर, विधाननगर और बारूईपुर में पुलिस बैरिकेट तोड़ दिया। पार्टी समर्थकों और पुलिस में धक्का-मुक्की शुरू हो गई। कानून तोडऩे के दौरान बारुईपुर में भाजपा समर्थकों ने कथित तौर से पुलिस पर पत्थर फेंके। स्थिति को काबू में लाने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया। बारूईपुर थाना प्रभारी सुब्रत कंगसबानिक ने भाजपा समर्थक महिला मिठू बनर्जी को सड़क पर पटक दिया और डंडे से पीट पीट कर घायल कर दिया। मौके पर एक भी महिला पुलिस तैनात नहीं थी। घायल महिला को पहले बारुईपुर के अस्पताल में भर्ती कराया गया। स्थिति गंभीर होने के कारण उसे कोलकाता के नेशनल मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है।
उधर आसनसोल में केन्द्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो और रूपा गांगुली के नेतृत्व में कानून तोड़ो अभियान होना था, लेकिन दोनों के समय पर नहीं पहुंचने पर पार्टी के प्रदेश सचिव रितेश तिवारी के नेतृत्व में समर्थकों ने कानून तोड़ा। पुलिस ने तिवारी और देर से पहुंची रूपा गांगुली सहित सभी को गिरफ्तार कर लिया।
वोट के लिए देश विरोधियों को बढ़ावा-कैलाश  
भाजपा महासचिव और पार्टी के बंगाल प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने हुगली के चुंचुड़ा में कानून तोड़ो अभियान का नेतृत्व किया और आरोप लगाया कि वोट बैंक के लिए बंगाल में देशविरोधी गतिविधियां चलाने वाले लोगों को प्रश्रय दिया जा रहा है। राज्य की कानून व्यवस्था बिगड़ती जा रही है। नारियों पर अत्याचार जारी है। हमारा आंदोलन इन सब के खिलाफ है और यह जारी रहेगा। 
Paritosh Dube Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned