scriptBloodshed in Nagaland, defection in Meghalaya | नगालैंड में खून खराबा, मेघालय में दलबदल | Patrika News

नगालैंड में खून खराबा, मेघालय में दलबदल

देश के उत्तर पूर्वी राज्यों में शांति और राजनीतिक स्थिरता हमेशा से चुनौती रही है। नगालैंड और मेघालय में इसका ताजा उदाहरण सामने आया है। जहां नगालैंड में शांति भंग हुई है तो मेघालय में राजनीति ने नई करवट ली है।

कोलकाता

Published: December 07, 2021 12:44:20 am

शांति और राजनीतिक स्थिरता चुनौती

उत्तर पूर्वी राज्य
रवीन्द्र राय
कोहिमा. देश के उत्तर पूर्वी राज्यों में शांति और राजनीतिक स्थिरता हमेशा से चुनौती रही है। नगालैंड और मेघालय में इसका ताजा उदाहरण सामने आया है। जहां नगालैंड में शांति भंग हुई है तो मेघालय में राजनीति ने नई करवट ली है। एक त्रासदीपूर्ण घटना के चलते देश के लोगों का ध्यान एक बार फिर नगालैंड पर गया है। राज्य के मोन जिले के ओटिंग में उग्रवादी होने के संदेह में सुरक्षाबलों की कथित गोलीबारी में 12 आम लोगों की मौत हो गई है। जबकि मेघालय के पूर्व सीएम मुकुल संगमा ने 12 विधायकों के साथ तृणमूल कांग्रेस के साथ जाने का फैसला किया है।
नगालैंड की घटना को लेकर बवाल मच गया है। सरकार सवालों के घेरे में आ गई है। एक तरफ सरकार घटना को अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण बता रही है तो विपक्ष घटना को लेकर गृह मंत्रालय को घेर रहा है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा है कि यह दिल दुखाने वाली घटना है। अपनी ही जमीन पर न तो आम लोग, न सुरक्षा बल सुरक्षित हैं। उन्होंने गृह मंत्रालय पर सवाल उठाते हुए कहा है कि सरकार को सही-सही जवाब देना चाहिए कि मंत्रालय आखिर क्या कर रहा है? इस घटना को लेकर केंद्र और राज्य सरकार पर सवाल उठना स्वाभाविक है, पर जहां तक नगालैंड का सवाल है? केंद्र सरकार दशकों पुराने नगा राजनीतिक मुद्दे को सुलझाने के लिए एनएससीएन (आईएम) से वार्ता कर रही है। केंद्र को उम्मीद है कि छह दशक से चली आ रही शांति वार्ता का एक सफल समाधान निकल आएगा। हालांकि नागा नेताओं के रुख से इसके जल्द समाधान की उम्मीद नजर नहीं आ रही है। फ्रेमवर्क समझौते पर 2015 में हस्ताक्षर हुए थे। नगा के लिए अलग झंडा और संविधान की एनएससीएन (आईएम) की मांग के कारण अभी तक अंतिम समझौता नहीं हो पाया। नागा समूहों की 31 मांगों में से कई का समाधान लगभग हो गया है, पर अलग झंडे और संविधान को लेकर मतभेद बना हुआ है। यही दो मुद्दे हैं, जो दिल्ली में चल रही भारत-नागा राजनीतिक वार्ता के तहत नागा समाधान को रोक रहे हैं।
नगालैंड में खून खराबा, मेघालय में दलबदल
नगालैंड में खून खराबा, मेघालय में दलबदल

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

UP Election 2022: यूपी चुनाव से पहले मुलायम कुनबे में सेंध, अपर्णा यादव ने ज्वाइन की बीजेपीकेशव मौर्य की चुनौती स्वीकार, अखिलेश पहली बार लड़ेंगे विधानसभा चुनाव, आजमगढ के गोपालपुर से ठोकेंगे तालकोरोना के नए मामलों में भारी उछाल, 24 घंटे में 2.82 लाख से ज्यादा केस, 441 ने तोड़ा दम5G से विमानों को खतरा? Air India ने अमरीका जाने वाली कई उड़ानें रद्द कीPM मोदी की मौजूदगी में BJP केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक आज, फाइनल किए जाएंगे UP, उत्तराखंड, गोवा और पंजाब के उम्मीदवारों के नामकोरोना का कहर : सुप्रीम कोर्ट के 10 जज कोविड पॉजिटिव, महाराष्ट्र में 499 पुलिसकर्मी भी संक्रमितUP Assembly Election 2022: योगी इफेक्ट को रोकने के लिए पूर्वांचल की इस सीट से चुनाव लड़ेंगे अखिलेश?बिपिन रावत के भाई कर्नल विजय रावत बीजेपी में होंगे शामिल, उत्तराखंड से लड़ सकते हैं चुनाव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.