CAA का विरोधः जेयू के विदेशी छात्र को भारत छोडऩे का निर्देश

  • पश्चिम बंगाल में संशोधित नागरिकता कानून (साीएए) के विरोध को लेकर फिर एक विदेशी छात्र को देश छोडऩे का नोटिस जारी किया गया है। जादवपुर यूनिवर्सिटी (जेयू) में पढ़ाई करने वाले पोलैण्ड के छात्र कामिल सिनिस्की को केनेद्रीय गृह मंत्रालय के तहत आने वाले फॉरेन रीजनल रजिस्ट्रेशन ऑफिस ने कामिल सिनिस्की को नोटिस भेजकर तुरंत देश छोडऩे को कहा है...

By: Ashutosh Kumar Singh

Published: 01 Mar 2020, 07:18 PM IST

कोलकाता
पश्चिम बंगाल में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के विरोध को लेकर फिर एक विदेशी छात्र को देश छोडऩे का नोटिस जारी किया गया है। जादवपुर यूनिवर्सिटी (जेयू) में पढ़ाई करने वाले पोलैण्ड के छात्र कामिल सिनिस्की को केनेद्रीय गृह मंत्रालय के तहत आने वाले फॉरेन रीजनल रजिस्ट्रेशन ऑफिस ने कामिल सिनिस्की को नोटिस भेजकर तुरंत देश छोडऩे को कहा है। विश्वविद्यालय सूत्रों की ओर से इसकी पुष्टि की गई है। वह तुलनामूलक साहित्य विभाग का छात्र है। २२ फरवरी को वह सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन में शामिल हुआ था।

इससे पहले पश्चिम बंगाल के विश्वभारती विश्वविद्यालय में अध्ययन कर रही एक बांग्लादेशी छात्रा को सीएए के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन में शामिल होने को लेकर भारत छोडऩे का आदेश दिया गया था।
स्नातक प्रथम वर्ष की छात्रा अफसरा अनिका मीम को भी विदेशी क्षेत्रीय पंजीकरण कार्यालय, कोलकाता की ओर से े ‘भारत छोड़ो नोटिस’ जारी किया गया था। नोटिस में कहा गया था कि वह सरकार विरोधी गतिविधियों में शामिल पाई गई है और ऐसी गतिविधियां वीजा नियमों का उल्लंघन है। ऐसे विदेशी नागरिक भारत में नहीं रह सकते। इसलिए नोटिस मिलने के 15 दिनों के अंदर भारत छोडना होगा।

अफसरा बांग्लादेश के कुष्टिया जिले की रहने वाली है। पिछले साल दिसम्बर महीने में विश्वविद्यालय परिसर में हुए सीएए विरोधी प्रदर्शनों से संबंधित कुछ पोस्ट फेसबुक पर कथित तौर पर साझा किया था। तब से उसे सोशल मीडिया पर ट्रोल किया जा रहा था। उसके बाद ही उसे नोटिस भाजा गया।

CAA
Show More
Ashutosh Kumar Singh Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned