गलियों में अब लगेंगे सीसीटीवी कैमरें!

बड़ी सडक़ों की तर्ज पर अब महानगर की संकरी गलियों व छोटे-छोटे रास्तों में भी सीसीटीवी कैमरें लगाए जाएंगे

By: शंकर शर्मा

Published: 22 Aug 2017, 10:58 PM IST

कोलकाता. बड़ी सडक़ों की तर्ज पर अब महानगर की संकरी गलियों व छोटे-छोटे रास्तों में भी सीसीटीवी कैमरें लगाए जाएंगे। शहर सुरक्षा अभियान के तहत इस योजना को एशियन डेवलपमेंट बैंक (एडीबी) अनुदान देगा। कोलकाता नगर निगम के इस प्रस्ताव को मंजूरी देते हुए एडीबी ने विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) मांगी है। इस पर जल्द ही काम शुरू किया जाएगा।


सोमवार को मेयर शोभन चटर्जी के साथ एडीबी के प्रतिनिधियो ने मुलाकात की। इस बैठक में एडीबी के प्रतिनिधयों ने निगम के काम से प्रसन्नता जाहिर की। निगम को एडीबी 1300-1400 करोड़ रुपए अनुदान देगा।


कोलकाता पुलिस की इस परियोजना को एडीबी से फंड मिलेगा। इसके तहत महानगर के छोटे-छोटे रास्ते व गलियों में भी सीसीटीवी कैमरे लगाएं जाएंगे। इसकी मॉनिटरिंग निगम व कोलकाता पुलिस के मुख्यालय से किया जाएगा।
सडक़ों से मुख्यालय तक को वाईफाई से कनेक्ट किया जाएगा।

निगम ने इसके लिए रिलायंस, वोडाफोन, एयरटेल जैसी संस्थाओं से सीएसआर के तहत नि:शुल्क कनेक्शन देने को कहा है। कोलकाता पुलिस के पास इस परियोजना की डीपीआर तैयार है। जल्द ही इसे भेज दिया जाएगा। इस परियोजना को महानगर की पार्किंग व्यवस्था वाले एप्प से जोड़ा जाएगा। निगम ने इससे पहले इस परियोजना को निजी टेलीकॉम प्रोवाइडर के समक्ष रखी थी लेकिन इसमें अधिक खर्च को देखकर निजी कंपनी पीछे हट गई। कंपनी ने कनेक्शन देने को हामी भरी।

केईआईआईपी को 3800 करोड़ का ऋण
मेयर शोभन चटर्जी का कहना है कि निगम को एडीबी केईआईआईपी परियोजना के तहत 3800 करोड़ रुपए का ऋण दे रहा है। पहले चरण का काम पूरा हो गया। दूसरे व तीसरे चरण का काम शुरू है। निगम ने वाटर मीटर लगाने का भी काम शुरू कर दिया है। निगम के इस काम से एडीबी बहुत खुश है।

एडीबी का कहना है कि परियोजना को पूरा करने में देशभर में केएमसी अव्वल है। इससे खुश होकर एडीबी 1300-1400 करोड़ रुपए अनुदान देने को तैयार है। निगम ने इसके तहत शहर सुरक्षा योजना को मंजूरी दिलवा दी है। एडीबी इस योजना को फंडिंग करने को तैयार है। जल्द ही डीपीआर भेजी जाएगी। इससे महानगर की ट्रैफिक ही नहीं, बल्कि अपराधिक गतिविधियों पर भी नजर रखने में पुलिस कामयाब होगी। जिससे अपराध का ग्राफ गिरेगा।

शंकर शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned