कोरोना मामले में केंद्र से नहीं मिली मदद: तृणमूल

तृणमूल कांग्रेस ने दावा किया है कि राज्य सरकार ने राज्य में कोविड-19 प्रबंधन पर अब तक 4,000 करोड़ रुपए खर्च किए हैं और केंद्र में भाजपा नीत राजग सरकार ने कोई सहायता नहीं दी है। राज्य की महिला एवं बाल विकास और समाज कल्याण मंत्री शशि पांजा ने कहा कि पश्चिम बंगाल सरकार ने महामारी से निपटने के लिए आवश्यक बुनियादी ढाँचे का निर्माण किया है।

By: Rabindra Rai

Published: 29 Nov 2020, 04:21 PM IST

कोलकाता. तृणमूल कांग्रेस ने दावा किया है कि राज्य सरकार ने राज्य में कोविड-19 प्रबंधन पर अब तक 4,000 करोड़ रुपए खर्च किए हैं और केंद्र में भाजपा नीत राजग सरकार ने कोई सहायता नहीं दी है। राज्य की महिला एवं बाल विकास और समाज कल्याण मंत्री शशि पांजा ने कहा कि पश्चिम बंगाल सरकार ने महामारी से निपटने के लिए आवश्यक बुनियादी ढाँचे का निर्माण किया है। उन्होंने कहा कि केंद्र से कोई सहायता नहीं मिलने के बावजूद, ममता बनर्जी सरकार ने राज्य में कोविड-19 महामारी से निपटने के लिए 4,000 करोड़ रुपए खर्च किए हैं।पार्टी मुख्यालय में संवाददाताओं को सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि जून से पहले 1,200 करोड़ रुपए और उसके बाद शेष 2,800 करोड़ रुपए खर्च किए गए हैं।पांजा ने कहा कि राज्य को कोविड -19 और सुपर साइक्लोन अम्फान की दोहरी आपदा का सामना करना पड़ा, जिसमें 1.02 लाख करोड़ रुपए का नुकसान हुआ।उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल सरकार ने सुपर साइक्लोन से प्रभावित बुनियादी ढांचे को राहत देने और पुनर्निर्माण में 6,500 करोड़ रुपये खर्च किए हैं।यह आरोप लगाते हुए कि केंद्र ने राज्य को कोई राहत नहीं दी है पांजा ने कहा कि भाजपा नीत राजग सरकार ने पश्चिम बंगाल को उसके वैध बकाया भुगतान से भी वंचित कर दिया है।
--
50,000 करोड़ का भुगतान नहीं
मंत्री ने दावा किया कि केंद्र सरकार ने पश्चिम बंगाल को अभी तक 50,000 करोड़ रुपए का भुगतान नहीं किया है, जिसमें से 36,000 करोड़ रुपये राज्य और केंद्र की सह-वित्त पोषित योजनाओं के लिए हैं। बावजूद इसके टीएमसी सरकार ने यह सुनिश्चित किया है कि कोई भी परियोजना बंद ना हो। उन्होंने कहा कि राज्य को धन के अवमूल्यन के तहत 11,000 करोड़ रुपए मिलना बाकी है। 3,000 करोड़ रुपये केंद्र सरकार से खाद्य सब्सिडी और कुछ अन्य प्रमुख योजनाओं पर देय है।
--
7,750 करोड़ प्राप्त करना बाकी
मंत्री ने दावा किया कि 50,000 करोड़ रुपए के अलावा, पश्चिम बंगाल सरकार को जीएसटी क्षतिपूर्ति देय राशि के आधार पर 7,750 करोड़ रुपये प्राप्त करना बाकी है। उन्होंने दावा किया कि राज्य को अभी भी केंद्र की उधार योजना के माध्यम से 6,787 करोड़ रुपए प्राप्त होने हैं।
मंत्री ने कहा कि भाजपा अपने राजनीतिक सहयोगियों को खो रही है और राजनीतिक विरोधियों को परेशान करने के लिए केंद्रीय जांच एजेंसियों का दुरुपयोग कर रही है।पांजा ने कहा कि शिवसेना और शिरोमणि अकाली दल भाजपा से दूर हो गए हैं और जेडी (यू) के भी एनडीए छोडऩे की संभावना है। इन्हें सीबीआई, ईडी और आयकर विभाग में नए सहयोगी मिल गए हैं।

Corona virus
Rabindra Rai Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned