छठपूजा: कोलकाता में कोरोना के भय पर आस्था भारी

- महामारी के भय को त्याग लोगों ने पूरी श्रद्धा और उमंग से छठ पूजा की
- उगते सूर्य को अर्घ्य के बाद महापर्व समाप्त

By: Ashutosh Kumar Singh

Published: 21 Nov 2020, 07:17 AM IST

कोलकाता
कोलकाता में कोरोना के भय पर सूर्य उपासना के महापर्व "छठ" की आस्था भारी पड़ी । महामारी के भय को त्याग लोगों ने पूरी श्रद्धा और उमंग से छठ पूजा की। गंगाघाट, सरोवर, कृत्रिम तालाब आदि पर श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ी। छठ व्रतियों के उमंग से चारों ओर गुलजार रहा। चारो ओर छठ के गीत बज रहे थे। पूरा वातावरण भक्तिमय था। गंगाघाट एवं गंगाघाट जाने वाली सड़कों पर लाइटिंग देखते बनती थी।
लोक आस्था के चार दिवसीय महापर्व के तीसरे दिन शुक्रवार को व्रतियों ने भक्तिभाव से अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य अर्पण किया। कोरोना संक्रमण से बचाव के नियमों के पालन के साथ व्रति दोपहर में ही घर से गाजे-बाजे के साथ गंगाघाट के लिए निकल पड़े थे।
निगम और पुलिस की ओर से गंगाघाटों पर सभी तरह के इन्तजाम किए गए थे। व्रतियों के गंगाघाट जाने में किसी तरह की परेअहाने न हो इसलिए ट्रैफिक रूट में बदलाव किया गया था। गंगाघाट जाने वाली सडकों में गाड़ियों की आवाजाही रोक दी गई थी।
बाबूघाट, जगन्नाथ घाट, नीमतल्ला घाट, बाजे कदमतलला घाट, दही घाट समस्त घाटों पर छठ पूजन के लिए कोलकाता नगर निगम और पुलिस की ओर से साफ-सफाई, लाइटिंग आदि की समुचित व्यवस्था की गई थी। व्रतियों की सुरक्षा के लिए चारो ओर पुलिस की पर्याप्त व्यवस्था की गई थी।
हालांकि गंगा घाटों पर भीड़ पिछले अन्य सालों की तुलना में काफी कम थी। कोलकाता में इस साल छठपूजा के लिए 1500 कृत्रिम तालाब बानाए गए थे। कोरोना संक्रमण को लेकर इस बार बड़ी संख्या में लोगों ने अपने घर ली छत पर पूजन-अर्चन की। साथ
व्रतियों में कोरोना को लेकर किसी प्रकार का भय नहीं दिखा। बड़ी संख्या में व्रति भूपरी करते हुए तथा गाजे-बाजे पर नाचते-गाते गंगाघाट आते-जाते दिखे। हालांकि कुछ लोग मास्क पहने जरूर दिखे। घाटों पर हैंड सेनिटाइजर की भी व्यव्स्था की गई थी।
चार दिवसीय महापर्व के पहले दिन बुधवार को व्रतियों ने नहाय-खाय तथा गुरुवार को दूसरे दिन खरना विधि का पालन किए थे। शनिवार को व्रति उगते सूर्य को अर्घ्य दिए। इसके बाद व्रति प्रसाद ग्रहण कर 36 घंटे का उपवास तोड़े। इस प्रकार महापर्व समाप्त हो गया।

Ashutosh Kumar Singh Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned