मालदह में भड़की साम्प्रदायिक हिंसा

मालदह जिले के चांचल थाना क्षेत्र के चंद्रपाड़ा और कालीग्राम में भड़की सांप्रदायिक हिंसा में करीब 15 लोग घायल हुए हैं

Shankar Sharma

15 Oct 2016, 11:34 PM IST

कोलकाता/मालदह. मालदह जिले के चांचल थाना क्षेत्र के चंद्रपाड़ा और कालीग्राम में भड़की सांप्रदायिक हिंसा में करीब 15 लोग घायल हुए हैं। बेकाबू हालात को काबू करने के दौरान 2 पुलिसकर्मी दंगाइयों की फायरिंग और बमबारी में गंभीर रूप से घायल हो गए। करीब 30 घरों में लूटपाट की गई। स्थिति पर नियंत्रण के लिए रैपिड एक्शन फोर्स को तैनात किया गया है। समाचार लिखे जाने तक स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई थी।


उधर उत्तर 24 परगना जिले के हाजीनगर में मुहर्रम पर भड़की हिंसा को लेकर अभी भी दहशत का माहौल है। लोग घरों में दुबके रहे और शनिवार को भी सन्नाटा पसरा रहा। इसके अलावा खडग़पुर सहित राज्य के कई स्थानों पर छिटपुट हिंसक वारदातें भी हुई। सूत्रों के अनुसार पिछले तीन दिन से दोनों समुदायों के बीच विवाद चल रहा था। इस बीच आरएसएस की बंगाल इकाई ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर वोट बैंक की राजनीति के लिए मुस्लिम तुष्टिकरण नीति को बढ़ावा देने का आरोप लगाया है।

मेले में छेडख़ानी से विवाद
विवाद की शुरुआत विजयादशमी के अगले दिन आयोजित मेले में एक लड़की से दूसरे सम्प्रदाय के युवक की छेडख़ानी से हुई। छेडख़ानी का विरोध करने पर मेले में दूसरे समुदाय के लोगों ने तोडफ़ोड़ व उत्पात मचाया। इसी क्रम में प्रतिक्रियास्वरूप शनिवार को हुई बमबारी में दूसरे पक्ष का एक युवक गंभीर रूप से घायल हो गया, जिसे चांचल के अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

एक धार्मिक स्थल में भी तोडफ़ोड़ की गई। हथियारों से लैस एक समुदाय विशेष के उपद्रवियों ने महाराजताला इलाके में शनिवार को दूसरे संप्रदाय के लोगों के घरों में घुसकर तोडफ़ोड़ और आगजनी की। साथ ही अनेक महिलाओं से पुलिस के सामने ही अभद्र व्यवहार कर हाथापाई भी की गई। कालीग्राम में बाजार में करीब 10 हजार से अधिक की संख्या में आए एक समुदाय विशेष के हथियारों से लैस उपद्रवियों ने जमकर उपद्रव मचाया। दूसरे समुदाय के घरों को निशाना बनाते हुए आगजनी, तोडफ़ोड़ और जमकर ङ्क्षहसक वारदातें हुई।

पुलिस मूकदर्शक
इस दौरान एक समुदाय विशेष के अनेक लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं। उपद्रवियों ने महिलाओं को भी नहीं बख्शा। पूरे घटनाक्रम के दौरान पुलिस मूकदर्शक बनी रही। उल्लेखनीय है कि इससे पहले पिछले साल कालियाचक में भी साम्प्रदायिक हिंसा भड़की थी, जिसमें अनेक लोग घायल हुए थे।

संघ ने दी आंदोलन की धमकी
उधर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के एक प्रतिनिधिमंडल ने शनिवार से राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी से इस संबंध में मुलाकात कर जल्द मामले में कोई कार्रवाई न होने पर बड़े आंदोलन की चेतावनी दी। प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री पर राज्य में कट्टरपंथ को बढ़ावा देने का आरोप लगाया। राज्यपाल ने इस संबंध में केंद्रीय गृह मंत्रालय को जल्द पत्र लिखने का आश्वासन प्रतिनिधिमंडल को दिया।
शंकर शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned