गरीब कल्याण योजनाः आखिर किस बात पर केंद्र पर क्षुब्ध हुए लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर चौधरी

केंद्र की गलत नीतियों पर मुखर होने वाले लोेकसभा में कांग्रेस संसदीय दल के नेता अधीर रंजन चौधरी एक बार फिर केंद्र के खिलाफ भौंहे तानी है।

By: Prabhat Kumar Gupta

Published: 22 Jun 2020, 05:46 PM IST

कोलकाता.
केंद्र की गलत नीतियों पर मुखर होने वाले लोेकसभा में कांग्रेस संसदीय दल के नेता अधीर रंजन चौधरी एक बार फिर केंद्र के खिलाफ भौंहे तानी है। चौधरी ने पीएम गरीब कल्याण योजना में पश्चिम बंगाल के किसी जिले को शामिल नहीं किए जाने पर नाराजगी जाहिर की है। इस संदर्भ में उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को पत्र लिख कर कारण जानना चाहा है।

अधीर ने अपने पत्र में लिखा कि देश के दूसरे राज्यों की भांति पश्चिम बंगाल में भी लाखोें की संख्या में प्रवासी मजदूर रोजगार जैसे कठिन समस्याओं से जूझ रहे हैं। उनकी समस्याओं पर गंभीरता से विचार करते हुए केंद्र को चाहिए कि वह बंगाल के जिलों को उक्त योजना में शामिल करे। इस बारे में उन्होंने प्रधानमंत्री को प्रत्यक्ष रूप से अनुरोध किया है।

दूसरी ओर, राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को लिखे पत्र में अधीर ने कहा कि वह इस मुद्दे पर केंद्र से गुहार लगाए। केंद्र पर दबाव डालिए ताकि बंगाल को भी उक्त योजना में शामिल करने के लिए केंद्र बाध्य हो जाए। अधीर ने कहा कि प्रवासी मजदूरों को लॉकडाउन में सबसे अधिक मुसीबत का सामना करना पड़ा था।

अनलॉक-1 शुरू होने के पश्चात् प्रवासी मजदूरों को रोजगार के लिए फिर से दूसरे राज्यों की ओर रूख नहीं करना पड़े, यह सुनिश्चित करने के लिए ही केंद्र ने उक्त योजना के माध्यम से मजदूरों को उनके ही इलाके में रोजगार का प्रबंध किया है। 50,000 करोेड़ रुपए की उक्त योजना का आगाज शनिवार को प्रधानमंत्री ने किया है। इसकी शुरूआत बिहार के खगड़िया जिले से हुई। देश के 6 राज्यों के 116 जिलों को योजना के अंतर्गत लाया गया है। अधीर ने कहा कि दुर्भाग्य की बात है कि पश्चिम बंगाल का एक भी जिला इसमें शामिल नहीं है। राज्य के कई जिलों में प्रवासी मजदूरों की संख्या लाखों में है।

Congress leader
Show More
Prabhat Kumar Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned