Corona Alert: अग्रिम पंक्ति के योद्धा जूझ रहे कई मोर्चों पर

एक के बाद एक बड़े अस्पतालों के कई सामान्य वार्डों में कोरोना पीडि़तों की सेवा से चिकित्साकर्मियों के संक्रमित होने के मामले बढ़ रहे हैं। वार्ड बंद किए जा रहे हैं। पत्रिका की पड़ताल में पखवाड़े भर में ऐसे आधा दर्जन मामले सामने आ चुके हैं। मरीजों का सामान्य वार्ड में इलाज से बढ़ रहा संक्रमण, अब तक 6 अस्पतालों के चिकित्साकर्मी आए पॉजिटिव रोगियों के संपर्क में

By: Rajendra Vyas

Published: 18 Apr 2020, 02:24 PM IST

परितोष दुबे
कोलकाता. राज्य में कोरोना से भिड़ रहे अग्रिम पंक्ति के नायक चिकित्साकर्मी अजीब तरह के संकट का सामना करने को विवश हैं। एक के बाद एक बड़े अस्पतालों के कई सामान्य वार्डों में कोरोना पीडि़तों की सेवा से चिकित्साकर्मियों के संक्रमित होने के मामले बढ़ रहे हैं। वार्ड बंद किए जा रहे हैं। पत्रिका की पड़ताल में पखवाड़े भर में ऐसे आधा दर्जन मामले सामने आ चुके हैं। इलाज सामान्य वार्ड में होने से संक्रमण फैला। इसे लेकर राज्य के चिकित्साकर्मियों के संगठन ने केन्द्र एवं प्रदेश सरकार से चिकित्साकर्मियों को पीपीई मुहैया कराने तथा कोरोना परीक्षण बढ़ाने की मांग की है। संगठन के एक वरिष्ठ सदस्य के अनुसार एक कोरोना पॉजिटिव के पीछे 6 चिकित्साकर्मीं सेवा में जुटते हैं। सरकार को कोविड- 19 संदिग्धों और सामान्य मरीजों की अलग अलग जगह चिकित्सा का प्रोटोकॉल सख्ती से लागू करना होगा।
तीन सौ से ज्यादा क्वारंटाइन
राज्य के आधा दर्जन से ज्यादा अस्पतालों के तीन सौ से ज्यादा स्वास्थ्यकर्मी कोरोना पॉजिटिव रोगियों के संपर्क में आए हैं , जिन्हें क्वारंटाइन या सेल्फ आइसोलेन में रखा गया है। इनमें से कुछ के कोरोना पॉजिटिव होने की पुष्टि हो चुकी है।
प्रशासन सतर्क
राज्य सरकार ने भी संक्रमण को लेकर नया चिकित्सा प्रोटोकॉल जारी किया है। अस्पतालों के आपातकालीन विभाग में संदिग्ध मरीजों की जांच अलग स्थान पर तय मानकों से की जाएगी।
इस गति से बढ़े परीक्षण
राज्य में कोविड- 19 के परीक्षण शुरुआती माह में धीमे रहे। पिछले दस दिन में परीक्षणों की संख्या तिगुनी हुई है।
अवधि परीक्षणों की संख्या कुल
29 फरवरी तक - 25
23 मार्च तक - 172
04 अप्रेल तक - 1042
15 अप्रेल तक - 3470
(स्रोत- पश्चिम बंगाल स्वास्थ्य विभाग कोविड- 19 बुलेटिन

Corona Alert: अग्रिम पंक्ति के योद्धा जूझ रहे कई मोर्चों पर

केस-1
हावड़ा जनरल अस्पताल में मार्च के अंतिम सप्ताह में एक महिला की मौत। जांच नतीजे कोरोना पॉजिटिव। अस्पताल बंद करने की घोषणा। अधीक्षक, दो डॉक्टर, एक सफाई कर्मी कोरोना पॉजिटिव। बड़ी संख्या में चिकित्साकर्मीं क्वारंटाइन।
केस- 2
एनआरएस मेडिकल कॉलेज के मेडिसिन वार्ड में मरीज की मौत। जांच नतीजे कोरोना पॉजिटिव। बड़ी संख्या में डॉक्टर, नर्स और रोगी क्वारंटाइन।
केस- 3
11 अप्रेल को आरजी कर मेडिकल कॉलेज के मेल और कार्डियोलॉजी विभाग में भर्ती तीन रोगी कोरोना पॉजिटिव। इनमें से दो की मृत्यु। दोनों वार्डों का एक-एक हिस्सा बंद। चिकित्साकर्मी क्वारंटाइन।
केस- 4
12 अप्रेल को कलकत्ता मेडिकल कॉलेज के ईडन परिसर में प्रसव के बाद प्रसूता कोरोना पॉजिटिव। तैनात चिकित्साकर्मी क्वारंटाइन। ईडन परिसर व सुपर स्पेशियलिटी बिल्डिंग बंद।

Corona Alert: अग्रिम पंक्ति के योद्धा जूझ रहे कई मोर्चों पर

इनका कहना है
जंग जीतने के लिए हथियार जरूरी
कोरोना के खिलाफ जंग में अग्रिम पंक्ति के योद्धाओं की अनदेखी नहीं कर सकते। उन्हें सुरक्षा किट मुहैया कराया जाए। अधिकाधिक परीक्षण किए जाएं। संदिग्ध अलग रखे जाए।
-डॉ. अर्जुन दासगुप्ता, अध्यक्ष, पश्चिम बंगाल डॉक्टर्स फोरम

सुरक्षा प्रोटोकॉल
अस्पताल में संदिग्ध रोगियों से दूरी रखी जा रही है। लक्षण पर सुरक्षा प्रोटोकॉल मानकर तय अस्पताल में रेफर किया जा रहा है। पीपीई या अन्य सुरक्षा इंतजाम पर्याप्त हैं।
-डॉ. जयव्रती मुखर्जी, अधीक्षक, बरानगर स्टेट जनरल अस्पताल

परीक्षण बढ़ाने की जरूरत
सरकार शुरुआत से ही आरोप प्रत्यारोप में लगी है। परीक्षण बढ़ाने और आंकड़े सार्वजनिक करने की जरूरत है।
-डॉ. सुभाष सरकार, स्त्री रोग विशेषज्ञ व सांसद बांकुड़ा

बरती जा रही है ऐहितायात
राज्य में प्रोटोकॉल मानकर कोरोना से जंग में ऐहितायात बरती जा रही है।
-डॉ. शांतनु सेन, पूर्व अध्यक्ष आईएमए,

Corona Alert: अग्रिम पंक्ति के योद्धा जूझ रहे कई मोर्चों पर
Rajendra Vyas Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned