कोरोना महामारी में स्कूल अभिवावकों के साथ

कई छात्रों का ट्यूशन फीस दिसंबर, 2019 से बाकि था। सब कुछ जानने के बाद स्कूल अधिकारी आगे आए एवं निर्णयगत रूप से 180 छात्रों की ट्यूशन फीस 40-50 प्रतिशत कम कर दी गई।

By: Vanita Jharkhandi

Published: 07 Sep 2020, 07:19 PM IST

महामारी से छात्रों के परिवारों को बचाने के लिए एम. पी. बिड़ला फाउंडेशन हायर सेकेंडरी स्कूल अग्रसर हुआ है। 5 अप्रैल, 2020 से ऑनलाइन कक्षाएं चल रही हैं। अधिकारियों ने देखा कि कई छात्रों ने उनकी ट्यूशन फीस का भुगतान नहीं किया था। छात्रों के परिवारों से संपर्क करके पाया गया कि महामारी के कारण कई छात्रों के माता-पिता बेरोजगार हो गए हैं; जबकि कुछ् लोगों के माता-पिता की ट्रैवल एजेंसी का कारोबार जो फलफूल रहा था अब बंद हो गया है। कुछ् लोगों की दुकानें बंद हो गई है। कई छात्रों का ट्यूशन फीस दिसंबर, 2019 से बाकि था। सब कुछ जानने के बाद स्कूल अधिकारी आगे आए एवं निर्णयगत रूप से 180 छात्रों की ट्यूशन फीस 40-50 प्रतिशत कम कर दी गई। विद्यालय प्रबंधन को पता चला कि इनमें से कुछ परिवार हैं जो अत्यधिक वित्तीय संकट का सामना कर रहे हैं। एस के सिंह, स्कूल के महाप्रबंधक ने उन अभिवावकों से निवेदन किया है कि वे उन छात्रों की ऑनलाइन पढ़ाई बंद न करें जिनकी ट्यूशन फीस पिछले दिसंबर से नहीं दी गई है। ऐसे 9 छात्रों के परिवारों को चावल और किराने का सामान भी दिया गया। छात्रों की इस साल ट्यूशन फीस नहीं बढ़ाई गई है। कक्षा 4 से 12 तक के लिए ऑनलाइन परीक्षाएं ली गई है। एक इनविजिलेटर 25 छात्रों के समूह के साथ लिया गया है। स्कूल परिसर कि सेनिटाईजेशन एवं सख्त सफाई नियमित रूप से हो रही है। हालांकि इस महामारी में कक्षाएं और परीक्षाएं ऑनलाइन चल रही हैं।

Vanita Jharkhandi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned