हवाई यात्रियों के लिए कोरेंटाइन फिर से हुआ अनिवार्य है

- यह नियम अंतर्राष्ट्रीय और घरेलू दोनों उड़ानों पर लागू होता है।

कोलकाता

By: Vanita Jharkhandi

Updated: 05 Aug 2020, 08:04 PM IST



विमान में सवार यात्रियों को 15 दिनों तक कोरेंटाइन में रहना अनिवार्य किया जाएगा। कोरोना के शुरुआती दिनों में यह निमय कड़े होने के बावजूद धीरे-धीरे अधिक शिथिल हो गया। राज्य और केंद्र दोनों ही पहले की तुलना में इस मुद्दे पर अधिक लचीला रुख अपनाने लगे हैं। लेकिन इसे अब राष्ट्रीय व अन्तराष्ट्रीय सेक्टर से आने वाले लोगों के लिए कोरेंटाइन रहना अनिवार्य कर रहे है। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार कोरेंटाइन में रहने का नियम फिर से अनिवार्य किया जा रहा है। नए नियमों को संस्थागत कोरेंटाइन में सात दिन और सात दिन घर कोरेंटाइन में रहना आवश्यकता होगा। इतना ही नहीं, यह नियम अंतरराष्ट्रीय और घरेलू दोनों उड़ानों के लिए लागू है। इस नियम से असल रखा गया है परिवार में किसी भी मृत्यु का मामला हो, यदि एक महिला गर्भवती है, यदि संबंधित यात्री को कोई गंभीर बीमारी है या 10 वर्ष की आयु का बच्चा के है। प्लेन में चढ़ने से पहले इन सभी चीजों की जानकारी संबंधित एयरलाइंस को देनी होती है। साथ ही नए नियमों के अनुसार जो यात्री कोरेंटाइन में नहीं रहना चाहते है उन्हें यात्रा से 96 घंटे पहले या भीतर आरटी-पीसीआर रिपोर्ट दिखानी होगी जो कि नेगेटिव होनी चाहिए। यह रिपोर्ट उसी स्थान की मान्य होगी जो कि भारत सरकार की ओर से अनुमोदित हो और रिपोर्ट में कोई हेरफेर नहीं है। अन्यथा, यात्री के खिलाफ मामला दर्ज किया जा सकता है। हवाईअड्डे के एक अधिकारी ने बताया कि शुरू में इस पर प्रतिबंध था लेकिन बाद में इसमें ढील दी गई। यात्रियों ने इसका फायदा उठाया। कई लोगों ने घरों में कोरेंटाइन में रहने को कहा गया पर वे नहीं माने। स्थिति बदतर और बदतर होती जा रही है। ऐसे में कड़ाई की आवश्यकत

Vanita Jharkhandi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned