बंगाल में कोविड मरीजों को लौटाया तो खैर नहीं

पश्चिम बंगाल के अस्पतालों में बेड की कमी को कारण बताकर कोविड मरीजों को लौटाने की घटनाओं पर ममता बनर्जी सरकार ने गंभीरता दिखाई है।

By: Prabhat Kumar Gupta

Published: 24 Jun 2020, 06:04 PM IST

कोलकाता.
पश्चिम बंगाल के अस्पतालों में बेड की कमी को कारण बताकर कोविड मरीजों को लौटाने की घटनाओं पर ममता बनर्जी सरकार ने गंभीरता दिखाई है। किसी भी हालत में मरीजों को लौटाने का प्रयास को सरकार बर्दाश्त नहीं करेगी। इस तरह की चेतावनी खुद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी दे चुकी हैं। यही नहीं गत सप्ताह मुख्यसचिव राजीव सिन्हा की अध्यक्षता में राज्य के समस्त गैर सरकारी अस्पतालों और नर्सिंग होम प्रबंधनों के साथ बैठक में भी इस बात को लेकर सतर्क किया जा चुका है। सरकार के मौखिक आदेश बेअसर होते देख स्वास्थ्य विभाग ने अस्पतालों को एक बार फिर सतर्क करते हुए कड़ा निर्देश जारी किया है।

राज्य के मुख्य सचिव राजीव सिन्हा ने गत सप्ताह इस मुद्दे पर समस्त गैर सरकारी अस्पतालों के प्रबंधन के साथ बैठक कर इस बारे में सतर्क किया था। निजी अस्पतालों पर सरकार के मौखिक निर्देश का कोई असर नहीं पड़ा। इसे देखते हुए स्वास्थ्य व परिवार कल्याण विभाग ने ऐसे मामलों में कठोर कार्रवाई करने की हिदायत देते हुए निर्देश जारी किया है।

लाइसेंस रद्द होने की चेतावनीः

सूत्रों ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग ने मंगलवार रात सरकारी और गैर सरकारी अस्पतालों के लिए अलग-अलग निर्देश जारी किया गया है। जिसमें कहा गया कि मरीजों के लौटाने की सूचना मिलने पर संबंधित निजी अस्पताल के खिलाफ क्लिनिकल एस्टाब्लिसमेन्ट कानून के तहत कार्रवाई करते हुए अस्पताल का लाइसेंस रद्द किया जा सकता है। जबकि सरकारी अस्पतालों में मरीज के लौटाने पर चिकित्सा पदाधिकारी के खिलाफ अनुशासन भंग का दोषी करार देते हुए स्वास्थ्य सेवा के नियमों के अनुसार कार्रवाई की जा सकती है। स्वास्थ्य विभाग ने स्पष्ट किया है कि उक्त निर्देशों का हर हाल में अनुपालन हो, अस्पताल अधीक्षकों को यह सुनिश्चित करना पड़ेगा।

निर्देशों में कारणों का व्याख्या करते हुए कहा गया है कि कोरोना मरीज के इलाज के लिए किस तरह की तैयारियां करना होगा। सरकारी निर्देशों को मानने के सवाल पर अस्पतालों का रवैया साफ नहीं होने की बात कही गई है। ऐसे में मुख्य सचिव की बैठक के बाद विभागीय स्तर पर जारी निर्देशों का काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है।

Show More
Prabhat Kumar Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned