दीघा तट पर मिली मृत डॉलफिन

दीघा तट पर मिली मृत डॉलफिन

Vanita Jharkhandi | Publish: Sep, 07 2018 07:51:17 PM (IST) Kolkata, West Bengal, India

- सौ किलो वजन, 7 फुट लम्बी थी डॉलफिन

दीघा . न्यू दीघा के समुद्र के किनारे पर शुक्रवार की सुबह एक मृत डॉलफिन को देखकर पर्यटकों में कौतूहल देखा गया। पर्यटकों को उसकी फोटो लेते और सेल्फी खींचते देखा गया। बाद में प्रशासनिक क र्मियों ने डॉलफिन के शव को वहां से उठाया।

सूत्रों के अनुसार शुक्रवार की सुबह न्यू दीघा के यात्रानाल घाट पर सूर्योदय के साथ ही पर्यटक तट पर आ गए थे। वहां उन्हें मृत डालफिन दिखाई दी। देखते ही देखते वहां लोग इक_े हो गए। फोटो खींचना, सेल्फी लेना शुरू हो गया। मृत डॉलफिन का वजन सौ किलो व लंबाई सात फूट बताई गई है। कुछ दिनों पहले मंदारमणि में भी डॉलफिन दिखी थी।

 

राष्ट्रीय पोषण माह के कार्यक्रम प0 बंगाल में भी शुरू

- सितम्बर माह को राष्ट्रीय पोषण माह के रूप में मनाया जा रहा है
कोलकाता. बंगाल में भी राष्ट्रीय पोषण माह मनाया जा रहा है इसकी शुरुआत शुक्रवार से कर दी गई है। राज्य का आदिवासी विकास विभाग इन कार्यकर्मों को माह भर आयोजित कर रहा है। कोलकाता स्थित कल्चरल रिसर्च इंस्टीच्यूट में शुक्रवार इस श्रृंखला का पहला कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस इंस्टीच्यूट ने राज्य के बच्चों व महिलाओं में पोषण के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए आदिवासी बहुल क्षेत्रों में 'राज्य में आदिवासी आहार तथा पोषणÓ विषय पर विचार-सत्र सितम्बर के पहले सप्ताह में आयोजित किए हैं। दूसरे सप्ताह में आदिवासी आहार पर मेलों का आयोजन किया जाएगा। इन कार्यक्रमों के लिए जिला-स्तरीय मुहिम हेतु राज्य के सात आदिवासी बहुल जिले चिह्नित किया गए हैं। इनमें पूर्व व पश्चिम मेदिनीपुर, बांकुड़ा, पुरुलिया, अलीपुरदुआर, जलपाईगुड़ी तथा दक्षिण दिनाजपुर शामिल हैं। माह व्यापी कार्यक्रम के अन्तर्गत पोषक पौधों के वृक्षारोपण हेतु विशेष अभियान चलाया जाएगा। राज्य प्रशासन की ओर से संचालित नौ आदिवासी आवास विद्यालयों - प. रघुनाथ मुर्मू आवासिक स्कूलों और सात एकलव्य मॉडल रेजीडेंसियल स्कूलों में यह वृक्षारोपण किया जाएगा। झाडग़्राम पुरुलिया और अलीपुरदुआर में सितम्बर के तीसरे सप्ताह में जिला स्तरीय पोषक आहार मेले आयोजित किए जाएंगे। चौथे सप्ताह में आदिवासी छात्राओं वाले स्कूलों में एनीमिया-निरोधक मुहिम चलाई जाएगी। छात्राओं में सेनीटरी नैपकिन व्यवहार बढ़ाने के लिए नौ रघुनाथ मुर्मू विद्यालयों और बेलपहाड़ी आदिवासी बालिका विद्यालय में स्वचालित वितरण मशीन भी स्थापित की जाएगी।

 

Ad Block is Banned