वार्षिक खेलकूद : शिक्षक-शिक्षिकाओं को दें 2 रुपए दान

वार्षिक खेलकूद : शिक्षक-शिक्षिकाओं को दें 2 रुपए दान

Renu Singh | Publish: Dec, 08 2018 07:05:10 PM (IST) Kolkata, Kolkata, West Bengal, India

-बारासात स्कूल में लगे पोस्टर
-वार्षिक खेलकूद के लिए कम पड़ता है सरकारी पैसा

-शिक्षक-शिक्षिकाओं ने थाने में दर्ज कराई शिकायत

बारासात स्कूल के शिक्षक-शिक्षिकाओं को 2 रुपए दान दें, वार्षिक खेलकूद के लिए क म पड़ता है सरकारी पैसा। बुधवार को बारासात स्कूल की दीवारें इस प्रकार के लिखे पोस्टर से पटी पड़ी थीं। ऐसे पोस्टरों ने शिक्षक -शिक्षिकाओं व प्रबंधन के सिर को शर्म से झुका दिया है। वे लोगों से 2 रुपए मांग रहे हैं। स्कूल क ी दीवारों पर यह पोस्टर किसने लगाया इसके बारे में किसी को कुछ भी पता नहीं है। बारासात स्कूल प्रबंधन की ओर से बारासात थाने में लिखित शिकायत दर्ज कराई गई है। इसके साथ ही बारासात सर्कल के निरीक्षक अरुणिमा चक्रवर्ती व प्राथमिक शिक्षा पर्षद को भी पोस्टर लगने की सूचना दी गई है। मालूम हो कि बारासात सर्कल में 47 प्राईमरी स्कूल हैं। प्रतिवर्ष सर्कल की ओर से वार्षिक खेलकूद प्रतियोगिता आयोजित की जाती है। यह खेलकूद आयोजित करने के लिए राज्य का शिक्षा विभाग पैसे दे देता है पर दबी जुबान से शिक्षक शिक्षिकाएं कहतें है कि सरकार से जो पैसे मिलते हैं वह अपर्याप्त है। सरकार से मिले पैसों से जब काम नहीं हो पाता था तो प्रबंधन चोरी चुपके शिक्षक शिक्षिकाओं से चंदा वसूलता था। चंदा वसूलने की शिकायत पर बुधवार को शिक्षामंत्री पार्थ चटर्जी ने घोषणा की और कहा कि खेलकूद प्रतियोगिता के लिए दिए जाने वाले पैसों में 40 फीसदी की बढ़ोतरी की जा रही है, अब चंदा लेने की समस्या नहीं रहेगी।

बारासात सर्कल का अपमान

बारासत सर्कल की निरीक्षक अरुणिमा चक्रवर्ती का कहना है कि पोस्टर लगाकर सर्कल का अपमान किया गया है। गत 27 नवम्बर को सर्कल के 47 स्कूलों में सरकार की ओर से दिए गए पैसे से वार्षिक खेलकूद प्रतियोगिता पूर्ण हो गई है। फिर स्कूल के बाहर ऐसे पोस्टर लगाकर सिर्फ स्कूल को बदनाम व शिक्षक-शिक्षिकाओं को नीचा दिखाने का काम किया गया है। यहां तक कि स्कूल ने किसी भी शिक्षक से इसके लिए चंदा नहीं लिया है। इस मामले पर हमनें स्थानीय थाने में शिकायत दर्ज कराई है। हमारी मांग है कि जल्द से जल्द इस पर कार्रवाई हो और आरोपी को सजा मिले।

 

Ad Block is Banned