दुर्गोत्सव: ममता सरकार ने खोला खजाना

पश्चिम बंगाल में अगले साल प्रस्तावित विधानसभा चुनाव से पहले ममता बनर्जी सरकार ने गुरुवार को अपना खजाना खोल दिया। हिंदू वोटरों को रिझाने के लिए एक और बड़ा ऐलान किया। उन्होंने राज्य की हर दुर्गा पूजा समिति को सरकार की ओर से 50 हजार रुपए की आर्थिक सहायता तथा बिजली बिल में 50 फीसदी की छूट देने की घोषणा की। सरकार के इस फैसले से राज्य की करीब 37 हजार पूजा समितियों को फायदा पहुंचेगा।

By: Rabindra Rai

Published: 24 Sep 2020, 09:16 PM IST

हर पूजा कमेटी को 50 हजार तथा बिजली बिल में 50 फीसदी की छूट
80 हजार हॉकरों को 2 हजार रुपए का अनुदान
कोलकाता. पश्चिम बंगाल में अगले साल प्रस्तावित विधानसभा चुनाव से पहले ममता बनर्जी सरकार ने गुरुवार को अपना खजाना खोल दिया। हिंदू वोटरों को रिझाने के लिए एक और बड़ा ऐलान किया। उन्होंने राज्य की हर दुर्गा पूजा समिति को सरकार की ओर से 50 हजार रुपए की आर्थिक सहायता तथा बिजली बिल में 50 फीसदी की छूट देने की घोषणा की। सरकार के इस फैसले से राज्य की करीब 37 हजार पूजा समितियों को फायदा पहुंचेगा। करीब 200 करोड़ रुपए का बोझ सरकार पर पड़ेगा। उसके साथ ही सीएम ममता कहा कि दुर्गा पूजा को देखते हुए 80 हजार हॉकरों को एक बार मिलने वाला दो हजार रुपए का अनुदान दिया जाएगा। आशा कर्मियों तथा सिविक वॉलेंटिरों के वेतन में एक अक्टबूर से एक हजार रुपए की वृदिध की जाएगी। राज्य में दुर्गा पूजा को प्रमुखतम त्योहार के रूप में जाना जाता है। ममता बनर्जी के इस ऐलान को हिंदू वोटरों को रिझाने की एक और कोशिश के रूप में देखा जा रहा है।
--
इस साल दुर्गा पूजा कार्निवल नहीं
ममता ने कहा कि इस साल राज्य में दुर्गा पूजा उत्सव (कार्निवल) आयोजित नहीं होगा। उन्होंने पूजा को लेकर लेकर दिशा-निर्देश जारी किए। उन्होंने कहा कि दुर्गा पूजा के दौरान पंडाल चारों ओर खुले होने चाहिए। पंडालों में प्रवेश द्वार पर सैनिटाइजर होना चाहिए और मास्क पहनना अनिवार्य रहेगा। इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना जरूरी होगा। पंडालों में सांस्कृतिक कार्यक्रमों के आयोजन की अनुमति नहीं होगी।
--
सादगी से मनाने की तैयारियां
मुख्यमंत्री बनर्जी ने बताया कि पश्चिम बंगाल में कोरोना वायरस से ठीक होने की दर (रिकवरी रेट) 87 फीसदी है। अभी तक कोरोना संक्रमण के दो लाख 34 हजार से भी ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। वहीं, वायरस की चपेट में आकर अब तक चार हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। पश्चिम बंगाल के सबसे बड़े त्योहार दुर्गा पूजा में करीब एक महीने का समय बचा है। कोविड-19 महमारी के मद्देनजर सादगी से उत्सव मनाने की तैयारियां पूरे प्रदेश में शुरू हो गई हैं।
--
इस बार खुले पंडाल
पूजा आयोजक संक्रमण को फैलने से रोकने के उपायों पर काम कर रहे हैं। ज्वलंत विषयों की थीम पर पूजा पंडाल बनाने के लिए ख्याति प्राप्त दक्षिण कोलकाता के आयोजक समाजसेवी संघ ने इस बार अपने खुले पंडाल की दिशा बदलकर दक्षिण एवेन्यू की ओर करने का फैसला किया है ताकि, श्रद्धालु अपने वाहन में बैठक कर दूर से ही देवी दुर्गा की प्रतिमा का दर्शन कर सकें।

Rabindra Rai Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned