कोरोना के वायरस रोकने के लिए एनकेडीए लेनदेन के लिए कान्टेक्टलैस पेमेंट पर जोर

- प्रशासन न्यूटाउन में न केवल प्रशासनिक मामले में, बल्कि अन्य मामलों में भी कैशलेस लेनदेन पर जोर देगा।

By: Vanita Jharkhandi

Updated: 14 Jun 2020, 06:47 PM IST



न्यूटाउन
नोटों व पैसे से कोरोना का संक्रमण फैलने की गुंजाइश अधिक है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने पहले ही नकद लेनदेन के माध्यम से कोरोना संक्रमण की संभावना के बारे में चेतावनी दी है। विशेषज्ञों का यह भी दावा है कि कोरोनावायरस 48 घंटे से अधिक समय तक जीवित रह सकता है। इसलिए, नकद लेनदेन में नोटों के माध्यम से संक्रमण फैलने से रोकने के लिए एनकेडीए ने संपर्क रहित भुगतान पर जोर देने का निर्णय लिया है। एनकेडीए के नए दिशानिर्देशों के अनुसार अब से यदि आप किसी भी क्षेत्र, हॉल आदि को किराए पर लेना चाहते हैं, तो आपको नेट बैंकिंग या ई-वॉलेट का उपयोग करना होगा। यही नहीं भवन निर्माण योजना की मंजूरी जैसी दैनिक गतिविधियों के मामले में, शुल्क को कैशलेस जमा करना होगा। प्रशासन न केवल प्रशासनिक मामले में, बल्कि अन्य मामलों में भी न्यूटाउन में कैशलेस लेनदेन पर जोर दे रहा है। उदाहरण के लिए, कई रिक्शा चालक जो कि दिन भर नकद भुगतान करते हैं। इस मामले में, यह भी बताया गया है कि ई-वॉलेट के माध्यम से लेनदेन को प्रोत्साहित किया जाएगा।
एनकेडीए के नए दिशानिर्देशों के अनुसार अब से यदि आप किसी भी क्षेत्र, हॉल आदि को किराए पर लेना चाहते हैं, तो आपको नेट बैंकिंग या ई-वॉलेट का उपयोग करना होगा। यही नहीं, भवन निर्माण योजना की मंजूरी जैसी दैनिक गतिविधियों के मामले में, शुल्क को कैशलेस जमा करना होगा। कोरोनो वायरस की स्थिति को ध्यान में रखते हुए प्रशासन का लक्ष्य न्यू टाउन में लगभग 80 प्रतिशत लेनदेन करना है। इतना ही नहीं, NKDA की योजना आगामी दुर्गा पूजा से पहले 100 प्रतिशत संपर्क रहित भुगतान पर जोर होगा।

Vanita Jharkhandi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned