प्रेमी संग पहले की पति की हत्या, अब करेगी यह काम

दमदम संशोधनागार में रोजाना सुबह कैदियों को जगाने तथा उनके मनोरंजन के लिए दमदम रेडियो की शुरुआत हुई है। जिसमें आरजे के रूप में उम्रकैद की सजायाफ्ता मनुआ को चुना गया है। खनकदार आवाज के साथ पूरे उत्साह से गुड मॉर्निंग फ्रेंड्स कह कर उसने अपना स्थान बना लिया है। मनुआ ने अपने प्रेमी अजीत के साथ मिलकर पति की हत्या की थी। दोनों को उम्रकैद की सजा सुनाई गई है।

कोलकाता. दमदम संशोधनागार में रोजाना सुबह कैदियों को जगाने तथा उनके मनोरंजन के लिए दमदम रेडियो की शुरुआत हुई है। जिसमें आरजे के रूप में उम्रकैद की सजायाफ्ता मनुआ को चुना गया है। खनकदार आवाज के साथ पूरे उत्साह से गुड मॉर्निंग फ्रेंड्स कह कर उसने अपना स्थान बना लिया है। मनुआ ने अपने प्रेमी अजीत के साथ मिलकर पति की हत्या की थी। दोनों को उम्रकैद की सजा सुनाई गई है। वह फिलहाल दमदम जेल में सजा काट रही है। गत सप्ताह दमदम सेंट्रल जेल में कैदियों के लिए रेडियो की व्यवस्था की गई है। रेडियो स्टेशन का नाम रेडियो दमदम रखा गया है। यह रेडियो सिर्फ सेंट्रल जेल के 4 हजार कैदियों के लिए है।
--
इनका भी चयन
इस रेडियो के लिए दस आरजे का चयन किया गया। ट्रेनिंग के बाद पांच कैदियों को चुना गया जिनमें से एक मनुआ है। बैरकपुर में हत्या की सजा काट रहे पीयूष घोष, उत्तरबंग के तुहिन राय जिसने अपनी पत्नी की हत्या की थी, जिनिया नन्दी व जयन्त कुमार सिन्हा का भी आरजे के रूप में चयन हुआ है।
--
मिल रही अच्छी प्रतिक्रिया
जीडी (कारा) अरुण गुप्त ने बताया कि इस रेडियो प्रोग्राम से जेल के कैदियों की अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है। ऐसा ही प्रयास अन्य संशोधनागार में भी किया जाएगा। तिहाड़, पुणे, तमिलनाडु , आगरा आदि जेलों में भी इस तरह के कदम उठाए गए हैं।

Rabindra Rai Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned