रोजी-रोटी की खातिर जान जोखिम में डालकर व्यापार

रोजी-रोटी की खातिर जान जोखिम में डालकर व्यापार

Jyoti Dubey | Publish: Feb, 03 2019 05:19:31 PM (IST) Kolkata, Kolkata, West Bengal, India

- गुरुदास मेंशन बिल्डिंग के खतरनाक हिस्से के नीचे ही हॉकर लगा रहे डाला। आंखो में बसा डर कह रहा मौत से डरकर कब तक रहे भूखे।

कोलकाता. गरियाहाट के गुरुदास मेंशन बिल्डिंग में लगी आग ने आसपास के हॉकरों का न केवल सामान जलाया बल्कि उनसे उनकी रोजी-रोटी का जरिया भी छीन लिया है। घटना के लगभग एक सप्ताह से अधिक बीत जाने के बाद भी रोजगार का कोई विकल्प न मिलने पर पीडि़त हॉकरों ने धीरे-धीरे अपनी पुरानी जगह पर स्टॉल लगाने शुरू कर दिए हैं। जो बिल्डिंग के खतरनाक हिस्सों के नीचे है।

मेयर फिरहाद हकीम ने निगम के बिल्डिंग विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे इमारत का खतरनाक हिस्सा तोड़ दें लेकिन उनके निर्देशों की पालना नहीं हुई है। इस बीच हॉकरों ने क्षतिग्रस्त हिस्से के नीचे डाला लगाना शुरू कर दिया है।

- क्या कहना है हॉकरों का :

हॉकरों का कहना है कि मौत के डर से कब तक भूखे रहेंगे। प्रशासन ने स्टॉल देने का आश्वासन दिया तो है, लेकिन जब तक हमें स्टॉल नहीं मिलती है तब तक परिवार का पेट कैसे पालें। बाजार के दूसरे हिस्से हॉकरों और दुकानों से भरे हुए हैं। निगम ने भी गरियाहाट चौराहे से 50 फुट की दूरी पर स्टॉल लगाने का निर्देश दिया है। ऐसे में खतरनाक जगह पर ही डाला लगा रहे हैं। बातचीत में उनकी आंखो में मौत का डर और चेहरे पर लाचारी साफ झलक रही थी।

- राहगीरों को भी नहीं रोक रहा कोई :

एक ओर जहां खतरनाक इलाके में हॉकरों को स्टॉल लगाते देख पुलिस देख कर भी अनदेखा कर रही है। वहीं क्षतिग्रस्त हिस्से के नीचे से राहगीर जान हथेली पर रखकर गुजर रहे हैं।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned