बंगाल के कांग्रेस नेताओं को राजनीति का पाठ पढ़ाएंगे पूर्व केंद्रीय मंत्री चिदम्बरम

नागरिकता संशोधित कानून (सीएए), राष्ट्रीय नागरिकता पंजी(एनआरसी) और राष्ट्रीय आबादी पंजी(एनपीआर) के खिलाफ आंदोलन को और अधिक धारदार बनाने की दिशा में जोरदार पहल की है।

कोलकाता.
नागरिकता संशोधित कानून (सीएए), राष्ट्रीय नागरिकता पंजी(एनआरसी) और राष्ट्रीय आबादी पंजी(एनपीआर) के खिलाफ आंदोलन को और अधिक धारदार बनाने की दिशा में जोरदार पहल की है। सीएए के मुद्दे पर मोदी के सवालों का मुंहतोड़ जवाब देने के उद्देश्य से पार्टी के प्रदेश और जिला स्तर के नेताओं को नेतृत्व देने का प्रशिक्षण का निर्णय लिया है। प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय विधान भवन में 18 जनवरी को ‘लीडरशिप ट्रेनिंग कैम्प’ का आयोजन किया गया है। पार्टी के वरिष्ठ नेता तथा पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री पी. चिदम्बरम नेताओं और कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षण देंगे।

प्रदेश कांग्रेस महासचिव तथा मीडिया प्रभारी अमिताभ चक्रवर्ती ने पत्रिका को बताया कि प्रधानमंत्री मोदी जिस तरह बेलूर मठ को राजनीतिक प्लेटफॉर्म के रूप में इस्तेमाल करते हुए सीएए को लेकर असत्य भाषण दिए। मोदी के हर सवालों का जवाब देने के लिए पार्टी तैयार हो रही है। इस संदर्भ में प्रदेश मुख्यालय में 18 जनवरी की सुबह 11 बजे से लीडरशिप ट्रेनिंग कैम्प लग रहा है।

पूर्व केंद्रीय मंत्री चिदम्बरम सबसे पहले उक्त कानून में किन विन्दुओं पर संविधान के साथ गतिरोध है एवं देश में सभी धर्म के लोगों पर इसका नकारात्मक असर को लेकर कैम्प में चर्चा होनी है। कैम्प में सीएए, एनआरसी और एनपीआर से संबंधित नेताओं के सवालों का जवाब चिदम्बरम खुद देंगे। इस अवसर पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सोमेन मित्रा, कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव तथा बंगाल के प्रभारी सांसद गौरव गोगोई सहित पार्टी के सांसद व विधायक भी उपस्थित रहेंगे।

Prabhat Kumar Gupta Reporting
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned