पूर्व विधायक भाजपा छोड़ वापस तृणमूल में लौटे

विप्लव मित्रा बोले, उनके लिए घर वापसी जैसा

By: Rajendra Vyas

Published: 31 Jul 2020, 11:50 PM IST

कोलकाता. पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक सरगर्मी तेज हो गई हैं। लोकसभा चुनाव के बाद तृणमूल छोड़कर भाजपा में शामिल हुए दक्षिण दिनाजपुर जिले के पूर्व तृणमूल जिलाध्यक्ष व पूर्व विधायक विप्लव मित्रा और उनके भाई प्रशांत मित्रा तृणमूल में लौट आए हैं। दक्षिण दिनाजपुर जिले की हरिरामपुर सीट से तृणमूल कांग्रेस के विधायक रहे मित्रा पिछले साल जून में भाजपा में शामिल हो गए थे। मित्रा ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस में लौटना उनके लिए घर वापसी जैसा है। कोलकाता में तृणमूल मुख्यालय में शिक्षा मंत्री और पार्टी महासचिव पार्थ चटर्जी ने उन्हें तृणमूल कांग्रेस का झंडा थमाकर पार्टी में स्वागत किया। मुख्यमंत्री तथा पार्टी प्रमुख ममता बनर्जी ने 21 जुलाई को शहीद दिवस की डिजिटल रैली के दौरान पुराने नेताओं से पार्टी में वापस आने को कहा था। मित्रा ने उसी पर वापसी की है। मित्रा के साथ ही उनके छोटे भाई और अन्य समर्थक भी तृणमूल कांग्रेस में दोबारा शामिल हुए।
लोकसभा चुनाव के ठीक बाद विप्लव मित्रा ने जून 2019 में तृणमूल छोड़ दी थी और मुकुल राय का हाथ पकड़कर भाजपा में शामिल हुए थे। उनके साथ जिला परिषद के अध्यक्ष, जिला परिषद सदस्यों, पार्षदों और पंचायत सदस्यों के एक समूह ने दिल्ली जाकर में भाजपा का दामन थामा था। ऐसे में यह भाजपा के लिए एक झटका माना जा रहा है।
मित्रा ने कहा कि तृणमूल के साथ एक अस्थायी अलगाव था। जो भी कारण हो। मैं बीच में भटक गया था और आज घर लौट आया। मैं साजिशकर्ताओं को जवाब दूंगा।
उन्होंने कहा कि मौजूदा समय में बंगाल में झूठा प्रचार कर लोगों को भ्रमित करने की कोशिश जारी है इसके खिलाफ वह पार्टी के साथ अपनी लड़ाई जारी रखेंगे। मित्रा मुकुल राय के काफी करीबी माने जाते थे।

BJP
Rajendra Vyas Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned