‘शिक्षा के साथ बच्चों को दें संस्कार’

‘शिक्षा के साथ बच्चों को दें संस्कार’

Shishir Sharan Rahi | Publish: Sep, 02 2018 09:13:10 PM (IST) Kolkata, West Bengal, India

कृष्ण-लीला रूप-सज्जा प्रतियोगिता, जन्माष्टमी पर अग्रवाल परिणय सूत्र समिति का आयोजन
राधा-कृष्ण बने बच्चों ने मोहा मन,-मुख्य आकर्षण 11 माह का कन्हैया बना शिवाय
---अग्रसेन स्मृति भवन में विजेताओं को नवाजा

कोलकाता. बच्चों को महज कागजी शिक्षा नहीं, बल्कि इसके साथ उन्हें संस्कारित करना भी बहुत जरूरी है। किसी भी जाति, धर्म और संस्था को संस्कार ही जीवित रखती है। जन्माष्टमी पर रविवार को अग्रवाल परिणय सूत्र समिति की ओर से कलाकार स्ट्रीट स्थित अग्रसेन स्मृति भवन में हुई कृष्ण-लीला रूप-सज्जा प्रतियोगिता में वक्ताओं ने अपने संबोधन में यह उद्गार व्यक्त किए। माहेश्वरी गल्र्स स्कूल की 5वीं क्लास की छात्रा दिव्या पोद्दार के गीता श्लोक पाठ से प्रतियोगिता शुरू हुई। 4 वर्गों में विभाजित इस प्रतियोगिता में 04 से 15 वर्ष तक के उम्र वाले बच्चों ने भाग लिया। प्रतियोगिता का मुख्य आकर्षण कन्हैया बना 11 माह का बालक शिवाय दीक्षित था, जिसे प्रथम पुरस्कार से नवाजा गया। इसके अलावा राधा बनी माहेश्वरी गल्र्स स्कूल की चौथी क्लास की छात्रा श्रेया दीक्षित की नृत्य प्रस्तुति ने अतिथियों का मन मोह लिया। प्रधान वक्ता विजय कुमार गुजरवासिया ने अपने संबोधन में जन्माष्टमी पर इस तरह के आयोजन की सराहना करते हुए कहा कि जीवन में पैसे से ज्यादा महत्व संस्कार का है। उन्होंने कहा कि बच्चों को संस्कारित बनाने से ज्यादा पुण्य का काम और कुछ नहीं। उन्होंने कहा कि आज की भागमभाग जीवन शैली में खासकर युवा पीढ़ी में संस्कार का अभाव देखा जा रहा है। ऐसे आयोजनों से युवा पीढ़ी को संस्कारित किया जा सकता है। समारोह अध्यक्ष कृष्ण कुमार सिंघानिया, प्रधान अतिथि सुभाष कुमार मुरारका, प्रधान वक्ता विजय कुमार गुजरवासिया थे। मंत्री सुशील कुमार सितानी ने संचालन किया। इस मौके पर लेखक-कलाकार मनीष व्यास और इवेंट मैनेजर वेदिका गोयनका भी मौजूद थी। अध्यक्ष निर्मल कुमार भरतिया, उपाध्यक्ष किशनलाल जालान, विनोद कुमार सर्राफ, अरूण कुमार धेलिया, विमल कुमार चौधरी, सह-सचिव संजय भौतिका, महेश मित्तल, अशोक ढाणोवाल, कोषाध्यक्ष दिनेश कुमार चौधरी, विधि सचिव कुसुम लुण्डिया आदि आयोजन को सफल बनाने में सक्रिय रहे।

----नंद उत्सव आज
जन्माष्टमी के मौके पर लक्ष्मीनारायण मंदिर में मंगलवार सुबह ९ से ११ तक नंद उत्सव का आयोजन होगा।

 

Ad Block is Banned