कर्मभूमि और जन्मभूमि दोनों से जुड़ा रहा है मारवाड़ी समाज, राज्यपाल ने क्यों कहा ऐसा? जानिए यहां

DIWALI MILAN OF BURRABAZAR YUVAK SABHA;शताब्दी प्राचीन बड़ाबाजार युवक सभा का दिवाली प्रीति मिलन समारोह, बतौर प्रधान अतिथि राज्यपाल ने कहा, आसान नहीं होता किसी भी संस्था का 100 वर्षों का सफर

कोलकाता. प्रीति हो मन में तो मिलन सार्थक होता है। प्रवासी समाज के रूप में मारवाड़ी समाज अपनी कर्मभूमि और जन्मभूमि दोनों से जुड़ा रहा है और यही इस समाज की विशेषता है। जहां भी रहो वहां की सभ्यता और संस्कृति से समरस होकर रहना और सेवाभाव से अपनी अमिट छाप छोडऩा। यह उद्गार राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने रविवार को व्यक्त किए। शताब्दी प्राचीन बड़ाबाजार युवक सभा के दीपावली प्रीति मिलन समारोह में बतौर प्रधान अतिथि राज्यपाल ने कहा कि किसी भी संस्था का १०० वर्षों का सफर आसान नहीं होता। संस्था के पदाधिकारियों की निष्ठा, त्याग, समर्पण और सर्वोपरि जनकल्याण की भावना के प्रति विश्वास इसके मूल में होता है। बड़ाबाजार युवक सभा ने राष्ट्रीय स्तर के खिलाडिय़ों को प्रोत्साहित करप्रशंसनीय कार्य किया है। उन्होंने कहा कि हम चाहे जो कुछ भी करें देश के उत्थान की भावना को सामने रखकर करें जिससे कार्य की व्यापकता और सर्वग्राहकता महसूस हो। इस अवसर पर समाजसेवी भानीराम सुरेका, हरिराम गर्ग, प्रहलाद राय गोयनका, हरिप्रसाद अग्रवाल, संदीप गर्ग, सुशील चौधरी, संस्था सभापति संजय गोयल, महासचिव राजकुमार बेरी, राजेश अग्रवाल, विकास अग्रवाल, संजय भोतिका, कांता प्रसाद चंगोईवाला आदि उपस्थित थे।

Shishir Sharan Rahi
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned