बंगाल लोस चुनावः दूसरे चरण में इन इन की प्रतिष्ठा दांव पर

बंगाल लोस चुनावः दूसरे चरण में इन इन की प्रतिष्ठा दांव पर

Prabhat Kumar Gupta | Publish: Apr, 17 2019 10:33:57 PM (IST) | Updated: Apr, 17 2019 10:33:58 PM (IST) Kolkata, Kolkata, West Bengal, India

पश्चिम बंगाल में लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में दार्जिलिंग, जलपाईगुड़ी और रायगंज में गुरुवार को मतदान होने जा रहा है। इन तीनों संसदीय सीटों पर राज्य की सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस को भाजपा से कड़ा मुकाबला करना पड़ रहा है।

 

- लोकसभा चुनाव: पहाड़ और समतल के लोगों में मतदान को लेकर उत्साह
- केंद्रीय सुरक्षा बलों तथा सीसीटीवी की निगरानी में वोटिंग का प्रबंध

कोलकाता.
पश्चिम बंगाल में लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में दार्जिलिंग, जलपाईगुड़ी और रायगंज में गुरुवार को मतदान होने जा रहा है। इन तीनों संसदीय सीटों पर राज्य की सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस को भाजपा से कड़ा मुकाबला करना पड़ रहा है। भाजपा एक तरफ दार्जिलिंग सीट पर अपना वजूद कायम रखना चाह रही है वहीं दूसरी ओर, तृणमूल कांग्रेस अपने कब्जे वाली जलपाईगुड़ी के साथ साथ दार्जिलिंग और रायगंज को भी अपने खाते में करना चाह रही है। भाजपा तृणमूल कांग्रेस के परम्परागत वोट बैंक वाले उत्तर बंगाल की सीटों को येन-केन प्रकारेण अपनी झोली में लाने में हर संभव प्रयास कर रही है। पीएम नरेन्द्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह सहित प्रदेश स्तर के दिग्गज नेताओं ने धुआंधार प्रचार के जरिए पहाड़ और समतल में अपनी उपस्थिति का एहसास कराया है। चुनाव को लेकर आमलोगों में गजब का उत्साह का देखा जा रहा है, पर केंद्रीय सुरक्षा बलों की उपस्थिति में ही उनकी खुशियां रंग ला सकती है। ऐसा मतदान के एक दिन पूर्व चुनावकर्मियों के समक्ष लोगों का गुस्सा फूटने से स्पष्ट हो रहा है। निर्वाचन आयोग ने निष्पक्ष और निर्विघ्न मतदान कराने को लेकर सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए हैं। इस चरण में तीन सीटों पर दो वर्तमान सांसदों मोहम्मद सलीम व विजय चंद्र बर्मन, पूर्व सांसद दीपा दासमुंशी, विधायक शंकर मालाकार, राजू बिस्ट, देवश्री चौधरी, पूर्व विधायक कन्हैयालाल अग्रवाल दिग्गज उम्मीदवार हैं।

दार्जिलिंग:
हिमालय की गोद में बसा दार्जिलिंग लोकसभा चुनाव को लेकर काफी चर्चा में है। 80 के दशक में गोरखा नेशनल लिबरेशन फ्रंट (जीएनएलएफ) नेता सुभाष घीङ्क्षसग और उसके बाद गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (गोजमुमो) सुप्रीमो बिमल गुरुंग के समर्थन से ही दार्जिलिंग संसदीय क्षेत्र का भाग्य निर्धारण होता रहा है। 2019 के लोकसभा चुनाव का यह पहला मौका है जब चुनाव के वक्त गुरुंग पहाड़ से दूर हैं। 2009 और 2014 के लोकसभा चुनावों में यहां से भाजपा के जसवंत सिंह और एस.एस. अहलूवालिया ने चुनाव जीत कर पहाड़ का प्रतिनिधितत्व किया है। भाजपा ने इस बार अहलूवालिया को यहां से टिकट नहीं दिया। इनके स्थान पर पार्टी ने राजू बिस्ट को मैदान में उतारा है। वहीं राज्य की सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस ने 2016 में दार्जिलिंग से गोजमुमो के टिकट पर विधायक बने अमर सिंह राई को उम्मीदवार बनाया है। कांग्रेस ने विधायक शंकर मालाकार तथा वाममोर्चा की ओर से पूर्व सांसद समन पाठक चुनाव समर में हैं। भाजपा को अपनी जीत का हैट्रिक बनाने तथा तृणमूल कांग्रेस को पहाड़ पर अपना परचम लहराने की चुनौती है। पिछले लोकसभा चुनाव में अहलूवालिया 4,88,257 (42.75), तृणमूल कांग्रेस के बाइचुंग भुटिया 2,91,018 (25.48 फीसदी) पाकर दूसरे स्थान पर रहे। जबकि माकपा के समन पाठक 1,67,186 (14.64 फीसदी) वोट पाए थे। चौथे स्थान पर रही कांग्रेस को 90,076 वोट मिले थे। दार्जिलिंग के वर्तमान सांसद 67 वर्षीय अहलूवालिया फिलहाल मोदी सरकार में मंत्री भी हैं। लोकसभा में उनकी उपस्थिति 87 फीसदी रही हालांकि दिसम्बर 2018 तक उन्होंने पहाड़ की जनता के लिए एक भी सवाल नहीं पूछा और ना ही कोई प्राइवेट मेम्बर बिल लोकसभा के पटल पर रखा।

रायगंज:
रायगंज लोकसभा सीट से दूसरी बार माकपा सांसद मोहम्मद सलीम चुनाव मैदान में हैं। लोकसभा में बेबाकी से राय रखने के लिए चर्चित सलीम को इस बार तृणमूल कांग्रेस के कन्हैयालाल अग्रवाल, भाजपा की देवश्री चौधरी और कांग्रेस की दीपा दासमुंशी से जबरदस्त टक्कर का सामना है। उत्तर दिनाजपुर की रायगंज संसदीय सीट पर इस बार रोचक और चतुष्कोणीय मुकाबला हो रहा है। बहुजन समाज पार्टी, इंडियन डेमोक्रेटिक रिपब्लिक फ्रंट, सोशलिस्ट यूनिटी सेंटर ऑफ इंडिया (कम्युनिस्ट), कामातापुर पीपुल्स पार्टी (युनाइटेड), गोरखा राष्ट्रीय कांग्रेस, राष्ट्रीय जनसचेतन पार्टी, ऑल इंडिया जन आंदोलन पार्टी, आमरा बंगाली के साथ चार अन्य निर्दलीय भी मैदान में हैं। 2014 के लोकसभा चुनावों में मोहम्मद सलीम 3,17,515 यानी 29.00 फीसदी मतों के साथ जीत हासिल की जबकि दीपा दासमुंशी को 3,15,881, 28.50 प्रतिशत वोट से संतोष करना पड़ा। वहीं भारतीय जनता पार्टी 14 फीसदी बढ़त बनाते हुए नीमू भौमिक 2,03,131 यानी 18.32 फीसदी मत मिले।

जलपाईगुड़ी:
जलपाईगुड़ी संसदीय सीट पर राज्य की सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस को चतुष्कोणीय मुकाबले का सामना करना पड़ रहा है। पार्टी ने मौजूदा सांसद विजय चंद्र बर्मन को एक बार फिर मैदान में उतारा है। इनका मुकाबला माकपा के भगीरथ चंद्र राय, भाजपा के डॉ. जयंत कुमार राय और कांग्रेस के मणि कुमार दरनाल से है। यहां कुल 16 उम्मीदवार अपना राजनीतिक भाग्य आजमा रहे हैं। इनमें बहुजन समाज पार्टी, सोशलिस्ट यूनिटी सेंटर ऑफ इंडिया (कम्युनिस्ट), आमरा बंगाली, समाजवादी जन परिषद, कामातापुर पीपुल्स पार्टी (यूनाइटेड) के अलावा तीन निर्दलीय उम्मीदवार भी मैदान में हैं। 1962 के आमचुनाव में जलपाईगुड़ी संसदीय सीट अस्तित्व में आई। क्षेत्र की जनता ने 1967, 1971 और 1998 के आमचुनाव में कांग्रेस का परचम लहराया था। जबकि अधिकांश चुनावों में माकपा की जीत होती रही। 2014 के लोकसभा चुनाव में राज्य की सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के विजय चंद्र बर्मन ने माकपा के महेन्द्र कुमार राय को करारा शिकस्त देकर निर्वाचित हुए थे। बर्मन ने 4,94,773 (38.00 फीसदी) मतों के साथ जीत हासिल की थी जबकि माकपा के राय को 4,25,167 (32.65 फीसदी) मत मिले थे।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned