सांसद सुनील मंडल पर हुए हमले की रिपोर्ट गृह मंत्रालय ने मांगी

गृह सचिव ने राज्य के मुख्य सचिव से मांगी रिपोर्ट

By: Krishna Das Parth

Updated: 26 Dec 2020, 10:20 PM IST

कोलकाता
तृणमूल छोडक़र भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने वाले तृणमूल कांग्रेस के सांसद सुनील मंडल की गाड़ी पर शनिवार सुबह कोलकाता में तृणमूल कर्मियों द्वारा किए गए हमले पर राजनीति गरमाती जा रही है। प्रदेश भाजपा के प्रभारी और राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने फोन कर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को इस बारे में शिकायत की। इसके बाद शनिवार देर शाम गृह मंत्रालय ने राज्य सरकार से इस मामले में रिपोर्ट तलब की है।
सूत्रों ने बताया कि गृह सचिव अजय भल्ला ने राज्य के मुख्य सचिव अलापन बनर्जी और पुलिस महानिदेशक से इस मामले में पूरी रिपोर्ट भेजने को कहा है। अपनी चि_ी में भल्ला ने पूछा है कि आखिर भाजपा के केंद्रीय कार्यालय के सामने इतनी बड़ी संख्या में हमलावर कैसे एकत्रित हुए? इन लोगों ने भाजपा में शामिल हुए सुनील मंडल व शुभेंदु अधिकारी की गाड़ी पर जब हमले की कोशिश की तब पुलिस ने क्या कार्रवाई की? हमला करने वालों के खिलाफ क्या कदम उठाया गया है? पुलिस प्रशासन इस बारे में पहले से सतर्क क्यों नहीं था? और भाजपा के कार्यालय के बाहर सुरक्षा की चाक-चौबंद व्यवस्था क्यों नहीं थी?
दरअसल गत शनिवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के मंच पर सुनील मंडल और शुभेंदु अधिकारी के अलावा 11 अन्य विधायकों ने भाजपा की सदस्यता ली थी। आज कोलकाता के हेस्टिंग्स स्थित पार्टी के नवनिर्मित चुनावी दफ्तर में इन्हें सम्मानित करने का कार्यक्रम आयोजित किया गया था जहां तृणमूल कांग्रेस ने मंच बना लिया है। वहां एकत्रित हुए तृणमूल कार्यकर्ताओं ने शनिवार सुबह सुनील मंडल के पहुंचने पर उनकी गाड़ी घेर ली और तोडफ़ोड़ की। इन लोगों ने शुभेंदु अधिकारी की गाड़ी पर भी हमले की कोशिश की लेकिन केंद्रीय सुरक्षा की वजह से अधिकारी की सुरक्षा में तैनात रहने वाले कर्मचारियों की सख्ती के आगे तृणमूल कार्यकर्ता पस्त नजर आए। आरोप है कि पुलिस मौके पर मौजूद थी लेकिन कोई कार्रवाई करने के बजाए मुक दर्शक बनी रही। इसकी वजह से भाजपा ने एक बार फिर कानून व्यवस्था की बदहाली को आधार बनाकर ममता बनर्जी पर सवाल खड़ा करना शुरू कर दिया है।

Krishna Das Parth Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned