Kolkata में 48 घंटे में एटीएफ फ्रॉड के 58 मामले, 12 लाख निकाले

 

- जादवपुर में 44 , करया में 1 व चारूमार्केट थाना में 13 मामले दर्ज
- दिल्ली में रोमानिया गिरोह के सक्रिय होने का अनुमान

By: Rakesh Mishra

Published: 03 Dec 2019, 10:52 PM IST

कोलकाता (Kolkata)

महानगर कोलकाता में पिछले 48 घंटे में एटीएम फ्रॉड के 58 मामले सामने आए हैं। इनमें सबसे ज्यादा जादवपुर थाना इलाके से हैं। पुलिस ने बताया कि जादवपुर में एटीएफ फ्रॉड के 44 मामलों में ग्राहकों के बैंक खाते से 9 लाख रुपए उड़ाए गए हैं। करया थाना इलाके में 1 और चारू मार्केट थाना में दर्ज 13 मामलों में 3 लाख लाख रुपए ग्राहकों के खाते से निकले गए हैं। दिल्ली के एटीएम से सारे रुपए निकाले गए हैं।
संयुक्त पुलिस आयुक्त (अपराध) मुरलीधर शर्मा ने मंगलवार को लालबाजार में संवाददाताओं को बताया कि डीडी विभाग की टीम दिल्ली पहुंच गई है। दिल्ली के लक्ष्मीनगर इलाके के एटीएम से सीसीटीवी फुटेज संग्रह किए गए हैं। फुटेज में तीन विदेशी नागरिकों को चिह्नित किया गया है। टोपी पहन कर और चेहरे पर मॉस्क लगाकर उन्होंने एटीएम से रुपए निकाले हैं। पुलिस को अनुमान है कि ये रोमानिया या टर्किस गिरोह के सदस्य हो सकते हैं। पुलिस इनकी तलाश तेजी से कर रही है।

बदलते रहें पिन नम्बर

वरीय अधिकारी ने एटीएम धारकों को 15 से 20 दिनों में एटीएम का पिन नम्बर बदलने की अपील की है। उन्होंने कहा कि एसबीआई ने अपने ग्राहकों की सुविधा के लिए योनो ऐप लाया है। इस ऐप के जरिए ग्राहक डेबिट कार्ड का इस्तेमाल करने के बाद उसे डिएक्टिव कर सकता है। यानी जरूरत के हिसाब कार्ड को एक्टिव या डिएक्टिव किया जा सकता है। इसका इस्तेमाल बहुत आसानी से किया जा सकता है।

ऐसे बदलें पिन नं.

जो उपभोक्ता अपने डेबिट या क्रेडिट कार्ड का पिन नम्बर बदलते नहीं हैं, वे कभी भी ठगी के शिकार हो सकते हैं। सुरक्षित रहने के लिए 15 दिन 20 दिनों पर एटीएम में जाकर पिन नम्बर बदल लें। यह बेहद आसान है। एटीएम में पैसे निकासी के विकल्प के नीचे, पिन चेंज का विकल्प आता है। उसे क्लिक कर पिन नम्बर बदला जा सकता है।

पुलिस करेगी एटीएम की जांच
महानगर में एटीएम की सुरक्षा का जायजा मोबाइल पेट्रोलिंग टीम लेगी। दिन में 1 से 2 बार यह टीम अलग अलग इलाके के एटीएम की जांच कर सुरक्षा का जायजा लेगी। वरीय अधिकारी मुरलीधर शर्मा ने बताया कि गत अप्रेल महीने में जादवपुर इलाके के दो एटीएम में स्कीमर डिवाइस लगे पाए गए थे। उस दौरान जिन लोगों ने इस एटीएम से रुपए निकाले उन ग्राहकों का डेटा गिरोह के पास है। कुछ ग्राहकोंं का डेटा अन्य गिरोह को बेचे जाने का अनुमान है। उसकी जांच की जा रही है। यह गिरोह दिल्ली में सक्रिय है। दिल्ली पुलिस की भी मदद ली जा रही है।

उपभोक्ताओं में आतंक

बैंक खाते से रुपए निकाले जाने से उपभोक्ताओं में आतंक है। खास कर जादवपुर इलाके में रहने वाले लोगों में भय का माहौल है। मंगलवार को पेंशनभोगी आशीष राय व उनकी पत्नी शर्मिला राय के बैंक खाते से 20 हजार रुपए गायब हो गए। उन्होंने जादवपुर थाना में इसकी शिकायत की है। एटीएम फ्रॉड की घटना से ग्राहकों में आतंक है। मंगलवार को बैंक में ग्राहकों की लंबी कतार देखने को मिली।

Rakesh Mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned