फिरहाद हकीम ने किया पद्योपुकुर केन्द्र का निरीक्षण

फिरहाद हकीम ने किया पद्योपुकुर केन्द्र का निरीक्षण
फिरहाद हकीम ने किया पद्योपुकुर केन्द्र का निरीक्षण

Nirmal Mishra | Updated: 10 Sep 2019, 10:51:20 PM (IST) Kolkata, Kolkata, West Bengal, India

फिरहाद हकीम ने किया पद्योपुकुर केन्द्र का निरीक्षण

फिरहाद हकीम ने किया पद्योपुकुर केन्द्र का निरीक्षण

- हावड़ा की पेयजल समस्या के समाधान का लक्ष्य

फोटो
हावडा

शहरी विकास मंत्री फिरहाद हकीम ने हावड़ा वासियोंं पेय जल की समस्या से निजात दिलाने के लिए पद्योपुकुर जल परिशोधन केन्द्र की क्षमता बढ़ाने और उसकी कमियां दूर करने के लिए किए जा रहे उपायों की समीक्षा की। वे मंगलवार को जल परिशोधन केन्द्र के निरीक्षण पर गए थे। उनके साथ राज्य के सहकारिता मंत्री अरूप राय, निगम के प्रशासनिक अधिकारी बिजीन कृष्णा, निगम के पूर्व चेयरमैन अरङ्क्षवद गुहा व पूर्व मेयर इन कॉसिल के सदस्य अरूण राय चौधरी मौजूद थे।

। शहरी विकास मंत्री ने बताया कि जल संयंत्र में कुल नौ पंप हैं, जिसमें सात चलते हैं। जबकि दो को स्टैण्ड बाई रखा जाता है। उन्होंने बताया कि पुराने पंपों की जगह नए पंप लगाए जाएंगे। पूर्व मेयर कॉसिल के सदस्य अरूण राय चौधरी ने कहा कि नई व्यवस्था होने पर हावड़ा में पानी की कोई समस्या नहीं होगी।

पोर्ट ट्रस्ट से सहमति बनी

नए परिशोधन केन्द्र के लिए गंगा से पानी लेने के लिए बनाए जा रहे 50 मीटर लंबे प्लेटफार्म पर कोलकाता पोर्ट ट्रस्ट ने आपत्ति जताई थी। अब शहरी विकास विभाग और पोर्ट ट्रस्ट के बीच सहमति हो गई। प्लेटफार्म की लम्बाई 30-35 मीटर के बीच रहेगी। नई परियोजनाओं के लिए पाइप लाइन बिछा दी गई है। गंगा से पानी को प्लांट तक पाइप के माध्यम से चालू करने के बाद जलापूर्ति शुरु हो जाएगी।

कोलकाता पोर्ट ट्रस्ट की ओर से दी गई जानकारी

बी गार्डन के दक्षिण में हावड़ा नगर निगम के लिए केएमडीए द्वारा पानी के सेवन के निर्माण को रोकने के लिए कोलकाता पोर्ट ट्रस्ट द्वारा नोटीस जारी किया गया। नोटिस में पानी के सेवन का काम हो रहा है जहाज के सुरक्षित मोडऩे और यह शिपिंग चैनल के करीब आ रहा था। कोलकाता पोर्ट ट्रस्ट व केएमडीए के अधिकारियों ने एक संयुक्त संयुक्त निरीक्षण किया गया। केएमडीएम के सीनियर डीजीओ, शहरी विकास मंत्री फिरहाद हकीम , इस विभाग के राज्य के सीआईओ और डीजीओ द्वारा एक बैठक की गई। इसमें तकनीकी प्रस्ताव पर चर्चा की गई और निर्णय लिया गया कि प्रस्तावों को कोलकात पोर्ट ट्रस्ट व केएमडीए द्वारा जांच के लिए प्रस्तुत किया जाएगा। केओटीपी छूट जाएगा और केएमडीए टीम के साथ संयुक्त रूप से इस मुद्दे को हल करने की कोशिश करेगा। यह भी एक अध्ययन केएमडीए द्वारा बी गार्डन के ऊपरी छोर पर जेटी लगाने के लिए किया जाएगा, जिसमें एप्लिकेशन 2.2 किमी की पाइपलाइन के साथ-साथ वन रोड के रूप में साइट को प्रस्तुत करने का सुझाव दिया गया।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned