scriptIntellectuals and artists came forward against violent incidents | हिंसक वारदातों के खिलाफ बुद्धिजीवी और कलाकार आए आगे | Patrika News

हिंसक वारदातों के खिलाफ बुद्धिजीवी और कलाकार आए आगे

  • ममता की तारीफ भी की: रोक लगाने की मांग को लेकर मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

कोलकाता

Published: April 04, 2022 07:37:55 pm

कोलकाता. राज्य में हालिया हुई आपराधिक घटनाओं पर नाराजगी जताते हुए बंगाल के बुद्धिजीवियों, कलाकारों ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को पत्र लिखा है। पत्र में कहा गया है कि राज्य में हिंसा की घटनाओं पर तत्काल लगाम लगाने की जरूरत है।
हिंसक वारदातों के खिलाफ बुद्धिजीवी और कलाकार आए आगे
हिंसक वारदातों के खिलाफ बुद्धिजीवी और कलाकार आए आगे
फिल्म निर्देशक अपर्णा सेन, धृतिमान चट्टोपाध्याय, कौशिक सेन, सुमन मुखर्जी, श्रीजीत, अनिर्बान चक्रवर्ती, परमब्रत चट्टोपाध्याय, रूपम इस्लाम समेत 22 लोगों ने पत्र पर हस्ताक्षर किए हैं।

राज्य में रामपुरहाट जनसंहार के बाद बुद्धिजीवियों के चुप्पी साधे रखने पर सवाल उठ रहे थे। विपक्ष बुद्धिजीवियों पर सत्ताधारी दल के साथ सांठगांठ के आरोप लगा रहा था।

प्रशासन- पुलिस की भूमिका पर सवाल
पत्र में आनिस खान हत्याकांड, रामपुरहाट जनसंहार, चुनाव पूर्व और बाद में हुई हिंसा, दो पार्षदों की हत्या का जिक्र करते हुए पुलिस प्रशासन की भूमिका पर सवाल उठाए हैं। पत्र में रामपुरहाट कांड के बाद ममता बनर्जी के उठाए गए कदमों की तारीफ भी की गई है। भाजपा का नाम लिए बिना कहा गया है कि ममता देश भर में विपक्ष का चेहरा बन रही हैं। उन्होंने राज्य विधानसभा चुनाव में विभाजनकारी नीतियां लागू करने वालों को हराया है।

पंचायत चुनाव में न हो पुनरावृत्ति
मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में कहा गया है राज्य में अगले साल पंचायत चुनाव होने हैं। राज्य प्रशासन को वर्ष 2023 के पंचायत चुनाव को सुचारू रूप से कराने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाने का अनुरोध किया है।


विरोध करें, रास्ते पर भी उतरें: सेन
अपर्णा सेन ने कहा कि राज्य के लोगों को हिंसा और मानवाधिकारों के हनन का विरोध करने में किसी तरह का डर नहीं होना चाहिए। जरूरत पडऩे पर रास्ते पर भी उतरना चाहिए।


पत्र लिखने वालों का नर्वस सिस्टम कमजोर: भाजपा
राज्य के बुद्धिजीवियों के एक वर्ग की ओर से मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को लिखे गए पत्र पर भाजपा नेताओं ने कड़ी टिप्पणी की है।

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सुकांत मजूमदार ने कहा कि पत्र लिखने वालों का नर्वस सिस्टम कमजोर है। उन्हें देर से बात समझ में आती है।
वहीं पार्टी के वरिष्ठ नेता तथागत राय ने फेसबुक पोस्ट कर बुद्धिजीवियों पर व्यंग्य किया। उन्होंने लिखा कि चलो बयान तो जारी किया, लेकिन उन्हें लगता है पत्र राज्य सरकार की कार्यप्रणाली का प्रशंसा पत्र है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Veer Mahan जिसनें WWE में मचा दिया है कोहराम, क्या बनेंगे भारत के तीसरे WWE चैंपियनName Astrology: इन नाम वाले लोगों के जीवन में अचानक से धनवान बनने का होता है योगफटाफट बनवा लीजिए घर, कम हो गए सरिया के दाम, जानिए बिल्डिंग मटेरियल के नए रेटबुध जल्द वृषभ राशि में होंगे मार्गी, इन 4 राशियों के लिए बेहद शुभ समय, बनेगा हर कामबेहद शार्प माइंड होते हैं इन 4 राशियों के लोग, बुध और शनि देव की रहती है इन पर कृपाज्योतिष: रूठे हुए भाग्य का फिर से पाना है साथ तो करें ये 3 आसन से कामराजस्थान में देर रात उत्पात मचा सकता है अंधड़, ओलावृष्टि की भी संभावनाशादी के 3 दिन बाद तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट! वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

बड़ी खबरें

टेरर फंडिंग केस में यासीन मलिक को उम्र कैद की सजा, 10 लाख का जुर्मानायासीन मलिक की सजा से तिलमिलाया पाकिस्तान, PM शहबाज शरीफ, इमरान खान, शाहिद आफरीदी को आई मानवाधिकार की यादAir Force के 4 अधिकारियों की हत्या, पूर्व गृहमंत्री की बेटी का अपहरण सहित इन मामलों में था यासीन मलिक का हाथअमरनाथ यात्रियों को तीन लेयर में मिलेगी सिक्योरिटी, ड्रोन व CCTV कैमरों के जरिए भी रखी जाएगी नजरमहबूबा मुफ्ती ने बीजेपी पर हमला करते हुए कहा- आप बता दो कि मुसलमानों के साथ क्या करना चाहते होकपिल सिब्बल समाजवादी पार्टी के टिकट से जाएंगे राज्यसभा, बताई कांग्रेस छोड़ने की वजह16 वर्षीय ग्रैंडमास्टर आर प्रज्ञानानंद ने रचा इतिहास, चेसेबल मास्टर्स के फाइनल में पहुँचने वाले पहले भारतीयलोकसभा चुनाव वाला Yogi का बजट, धर्म के साथ रोजगार, युवा, किसान, महिलाओं को जोड़ेगी सरकार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.