इस्कॉन मायापुर श्रीचंद्रदया मंदिर रविवार 30 मई तक बंद

तारापीठ-दक्षिणेश्वर व कालीघाट के मंदिर 30 मई तक भक्तों के लिए रहेंगे बन्द

By: Vanita Jharkhandi

Published: 16 May 2021, 07:15 PM IST

इस्कॉन मायापुर श्रीचंद्रदया मंदिर रविवार 30 मई तक बंद
मायापुर
इस्कॉन मायापुर श्रीचंद्रदया मंदिर रविवार 16से 30 मई तक बंद रखने का फैसला किया है। आगंतुकों और स्थानीय भक्तों का मंदिर हॉल में प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा। केवल कुछ भक्तों को, पूरी तरह से चेक करने और मास्क पहनने और स्वच्छता जैसी सावधानी बरतने के बाद, देवता पूजा, भोग और आरती जैसी आवश्यक सेवाओं को करने की अनुमति दी जाएगी।
निवासी भक्तों को नियमों का पालन करने और सभी मण्डली गतिविधियों को रद्द करने के लिए कहा गया है। मीडिया प्रभारी सुब्रत दास ने बताया कि सरकार की थी हुई गाइड लाइन का पालन किया जाएगा। दुनिया भर के भक्तों से अनुरोध है कि वे ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के माध्यम से विभिन्न मंदिर कार्यक्रमों का पालन करें। मालूम हो कि मंदिर में चंदन स्नान उत्सव आरंभ हुआ है पर कोरोना के कारण बाहरी भक्तों के प्रवेश पर रोक रहेगी।

तारापीठ-दक्षिणेश्वर व कालीघाट के मंदिर 30 मई तक भक्तों के लिए रहेंगे बन्द

कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए लगे व्यावहारिक' लॉकडाउन, तारापीठ-कालीघाट-दक्षिणेश्वर मंदिर के फाटक को बन्द कर दिया है। इसके साथ ही इस्कॉन मंदिर भी बाहरी भक्तों के लिए बन्द है। राज्य की ओर से जारी नए प्रतिबंध राज्य में आज सुबह 6 बजे से 30 मई तक जारी रहेंगे। ऐसे में संक्रमण के चलते तारापीठ, कालीघाट और दक्षिणेश्वर मंदिर को भक्तों के लिए बन्द कर दिया है। इसके साथ ही राज्य में अन्य कई मंदिरों में भी भक्तों के प्रवेश पर रोक है। चूंकि बाहर निकलने की ही मनाही है तो ऐसे में लोग मंदिरों में जा भी नहीं सकेंगे। सरकार की ओर से जारी नई गाइड लाइन के साथ ही रविवार की सुबह छह बजे से 30 मई तक आवश्यक चीजों के अतिरिक्त अन्य कुछ भी खुला नहीं रहेगा। तारापीठ मंदिर समिति ने फैसला किया है कि संक्रमण से बचाव के लिए तारापीठ मंदिर 30 मई तक जनता के लिए बंद रहेगा। इसी बीच शनिवार शाम कालीघाट मंदिर समिति की बैठक हुई। उस बैठक में निर्णय लिया गया कि सरकार के निर्देश पर मंदिर को 15 दिनों के लिए बंद कर दिया जाएगा। बाद में स्थिति को देखते हुए समिति तय करेगी कि कालीघाट मंदिर कब खुलेगा। मंदिर समिति ने दक्षिणेश्वर मंदिर को बंद करने के निर्णय की भी घोषणा की है। दक्षिणेश्वर में मां भवतारिणी के मंदिर के ट्रस्टी कुशल चौधरी ने कहा कि फिलहाल दर्शनार्थियों को मंदिर में प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा।

Vanita Jharkhandi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned